Sunday, June 10, 2007

स्टैटकाउण्टर, ओधान कलेन और बिजनेस वीक

भग्वद्गीता और रामचरित मानस के बाद पिछले 3 महीने में जो सतत ध्यान से देखा है वह है स्टैटकाउण्टर! और जब स्टैट काउण्टर वाले ने पिछले हफ्ते फ्री में लॉग साइज 100 से 500 कर दिया तो मैं धन्य पा रहा था अपने को.

आज जब ओधान कलेन का ई-मेल आया तो वैसा ही था जैसे हिन्दी ब्लॉगर थोक में भेजते हैं जरा मेरी फलानी वाली पोस्ट पढ़ लीजिये. लेकिन उसमें अनुरोध था बिजनेस वीक के अवार्ड के लिये वोट देने का. जब बिजनेस वीक पर गया और पता चला कि योरोप के 25साल से कम के बिजनेस ऑंत्रेपिन्योर के लिये वोट देना है और स्टैटकाउण्टर का ओधान कलेन उसमें से एक है तो अजीब फीलिंग हुई. पहली तो यह कि वाह! क्या बन्दा है! चौबीस की उम्र और यंग ऑंत्रेपिन्योर के लिये नॉमिनेशन. वह भी बिजनेस वीक के अवार्ड के लिये!

दूसरी फीलिंग जो कुछ समय बाद आयी; वह थी क्या पण्डितजी (अपने आप को सम्बोधन) तुमने तो जिन्दगी भर घास ही खोदी!

ओधान कलेन अपने को जन्मजात ऑंत्रेपिन्योर कहता है. बारह की उम्र में उसने रिज्यूमे टाइपिंग बिजनेस सेट-अप किया. फिर वेब साइट डिजाइन में हाथ अजमाया. उसी से विचार बना स्टैटकाउण्टर का. यह कम्पनी उसने 16 साल की उम्र में लांच की (उस उम्र में हमारा मुख्य ध्येय था कि कक्षा में एक सवाल अंग्रेजी में पूछ सकें!).

ओधान कलेन का स्टैटकाउण्टर 14 लाख ग्राहकों के 20 लाख वेब साइट्स को काउण्टर प्रदान करता है. यह कम्पनी 9000,000,000 वेब पेज-व्यू ट्रैक करती है प्रति माह. रोज 1500 नये ग्राहक जोड़ रही है अपने साथ. और प्रॉफिट में तो है ही यह कम्पनी.

वाह! 14 लाख ग्राहकों में से कम से कम आधे तो अधोहन कल्लेन को वोट देंगे ही. मैने भी दे दिया.

बन्धु, उत्कृष्टता में उम्र तो कोई फैक्टर है ही नहीं.

8 comments:

  1. बन्धुवर ई-पत्र तो अपने पास भी आया था पर ना तो हम आपकी तरह रिसर्च में उलझे ना आप जैसी कोई मानसिक हलचल पैदा हुई.लेकिन सही हलचल होती है आपके मानस में अपने पास तो उस मानस की कमी है...

    ReplyDelete
  2. पण्डित जी मैं भी उनकी लकड़ी से अपने ब्लाग पर फटका लगाता हूं इसलिए वोटे देने का धर्म पालन मैंने भी कर दिया है.

    ReplyDelete
  3. सचमुच ये लड़का बेमिसाल है। इसने बहुत अच्छा प्रोडक्ट बनाया है, मै तो इसका मुरीद हूँ। इतनी कम उम्र मे इत्ता बड़ा कमाल, वाकई तारीफ़ करनी होगी।

    मैने भी इसे वोट दिया है, आप सभी भी दें।

    ReplyDelete
  4. वाकई बेमिसाल है इस लड़के की प्रतिभा. अच्‍छी जानकारी देने के लिए आपका भी धन्‍यवाद.

    ReplyDelete
  5. मेलवा हमरे पास भी आया रहिन पर हम अबहीं तक नही न देखा हूं।
    धन्यवाद है जानकारी के लिए।

    ReplyDelete
  6. हाँ जी हम भी उनकी सेवा प्रयोग करते हैं तो वोट कर दिया था।

    राजेश्वर आनंद भी इस सूची में हैं, उनको भी वोट देना न भूलिएगा, हम कर दिए हैं। :)

    ReplyDelete
  7. बालक को वोट देने की बनती है, पंडित जी. जानकारी के लिये साधुवाद.

    ReplyDelete

आपको टिप्पणी करने के लिये अग्रिम धन्यवाद|

हिन्दी या अंग्रेजी में टिप्पणियों का स्वागत है|
--- सादर, ज्ञानदत्त पाण्डेय