Monday, October 22, 2007

फोटो में केप्शन लगाने की तकनीक



अजित (शब्दचौधरी अजित वडनेरकर) ने टिप्पणी कर फोटो में केप्शन लगाने की तकनीक पूछी है।
मैने विण्डोज़ लाइवराइटर का प्रयोग किया है। आप उसे इस लिंक पर उपलब्ध लिंक से इंस्टॉल कर सकते हैं। विण्डोज़ लाइवराइटर में टेबल बनाने के ऑप्शन हैं। आप टेबल (Table) के एक रो (Row) 2 कॉलम (Column) या 2 रो 1 कॉलम का प्रयोग कर एक खाने में फोटो और दूसरे में कैप्शन लगा सकते हैं।

caption1

caption2
उदाहरण के लिये मैं अपनी फोटो और अपना प्रशस्ति कैप्शन इस प्रकार लगा सकता हूं 1 रो और 2 कॉलम के टेबल में:
Gyan(094)
ज्ञानदत्त पाण्डेय वे ब्लॉगर हैं, जो हिन्दी के शब्द खोजते पाये जाते हैं और न मिलने पर बिना-शर्म अंग्रेजी ठूंस देते हैं!
आप टेबल को राइट, लेफ्ट या सेण्टर एलाइन (Align) भी कर सकते हैं - फार्मेट (Format) में उपलब्ध विकल्पों से। आप टेबल की मोटाई आदि भी सेट कर सकते हैं अन्यथा टेबल बॉर्डर को अदृष्य भी कर सकते हैं। मैने ऊपर टेबल सेण्टर एलाइन और बॉर्डर अदृष्य कर रखा है।
बाकी जद्दोजहद आप करें। उससे आप और बेहतर फॉर्मेटिंग कर पायेंगे!
----------------------------
मेरी रविवार को छपी पोस्ट जो शायद आपने न पढ़ी हो: प्रसन्न खानाबदोशों का एक झुण्ड। 


Gyan(109) विजयदशमी की शाम को कल नीरज रोहिल्ला (अंतर्ध्वनि ब्लॉग वाले) और उनके मित्र अंकुर मिलने घर पर आये। ह्यूस्टन, टेक्सास से कोई सज्जन ऑब्स्क्योर सी जगह शिवकुटी, इलाहाबाद में मुझसे मिलने आये - यह मेरे और मेरे परिवार के लिये बहुत प्रसन्नता दायक था। दुनियाँ के समतल होते जाने पर हम लोगों ने बहुत आस्था जताई। आप नीरज (दायें) और अंकुर का मेरे घर पर लिया चित्र देखें।
नीरज ने मुझे वैकल्पिक ईन्धन के रूप में गैस हाइड्रेट्स के बारे में जानकारी दी। उसपर मैं आगे पढूंगा और बन पड़ा तो एक-आध पोस्ट ठेलूंगा! मुझे मालूम नहीं कि पंकज अवधिया जी के इसके पर्यावरणीय प्रभाव पर पहले ही कुछ विचार बन चुके हैं या नहीं।   

25 comments:

  1. ज्ञानवर्धक पोस्ट...हम अब तक इस्तेमाल नहीं कर रहे विंडोज लाईव राईटर....


    नीरज बढ़िया रहे आप तक फुँच गये और हमारे घर के पडोस से लौट गये और खुसी खुशी नक्शा परोस रहे थे.

    खैर, जो जिससे मिल ले..परिवारीकरण के इस ब्लॉगिया दौर का विकास ही होगा...:)

    अच्छा रहा इस पोस्ट से गुजरना.

    ReplyDelete
  2. सही है। आशा है अब शब्द्चौधरी की क्लास में चित्र भी दिखेंगे। नीरज आपके यहां आने के पहले हमारे यहां भी पधारे। उनकी आपको भी दौड़ाने की योजना थी। सफ़ल हुये या असफ़ल?

    ReplyDelete
  3. चलिये ज्ञान ले लिया.

    ReplyDelete
  4. तो फिर आप इसे भी मेरा ईमेल ही समझें ... आपसे अनुरोध है कि नियमित, साप्ताहिक-पाक्षिक ही सही, तकनीकी ज्ञानगंगा भी बहाएँ...

    ReplyDelete
  5. गैस हाइड्रोजन पर ज्लदी ठेलिये पोस्ट - इंतजार न करवाइये।

    ReplyDelete
  6. अब तक विंडोज लाइव राइटर इस्तेमाल नहीं किया। पर अब करके देखूंगा। आप पढ़ाते सही हैं। भैरी गुड।

    ReplyDelete
  7. हमने भी ज्ञानार्जित किया ज्ञान भाई

    ReplyDelete
  8. विन्डोज लाईव राईटर में इतनी सारी सुविधायें है कि हम हिन्दी चिट्ठाकार उसका १०% भी उपयोग नहीं कर पाते।
    इसमें कई तरह के प्लग इन भी अलग से जोड़े जा सकते हैं।
    कई तरह की खामियाँ भी है।

    ReplyDelete
  9. @ समीर - यह तो है, मैं देख रहा हूं परवारीकरण बहुत हो रहा है ब्लॉग जगत में और वह हमारे व्यक्तित्व में सही बदलाव ला रहा है।
    @ अनूप - नीरज जी को दौड़ाने के बारे में कहने का मौका नहीं दिया!
    @ काकेश - धन्यवाद!
    @ रवि रतलामी - क्या बात करते हैं? तकनीकी ज्ञान ठेलने का ठेका श्रीश के पास है। हम तो बस यूंही वाले है!
    @ उन्मुक्त - बस जरा पढ़ लूं गैस हाइड्रेट्स पर!
    @ आलोक - आपने कहा "आप पढ़ाते सही हैं। भैरी गुड।" तो समझो अपने को मैडल मिल गया। स्टूडेण्ट्स को पढ़ाने वाला सर्टीफिकेट दे तो अच्छा लगता है!

    ReplyDelete
  10. @ बोधिसत्व - धन्यवाद जी!
    @ सागरचन्द नाहर - आप तब प्लग-इन के बारे मे जरूर बतायें।

    ReplyDelete
  11. संजय बेंगाणीOctober 22, 2007 at 11:47 AM

    धन्यवाद ज्ञान बांटने के लिए.

    ReplyDelete
  12. सीखने और सिखाने की आपकी उत्सुकता और तत्परता अनुकरणीय है।

    इतनी सहजता से हर विषय पर पोस्ट 'ठेल सकने' में आपकी महारत से मेरे जैसे ब्लॉगरों को काफी कुछ सीखने को मिलता रहता है।

    ReplyDelete
  13. हर बात का बस इसलिये विरोध करना कि विरोध करना ही है - ऐसा वाला पर्यावरणविद अभी तक नही बना हूँ। आपने नकेल ताने रखी तो बनूँगा भी नही। आपकी पोस्ट का इंतजार रहेगा।

    ReplyDelete
  14. हमहूं अभी तक उ लाईव राईटर इस्तेमाल नही न किए हैं, शुक्रिया जानकारी के लिए!!

    ReplyDelete
  15. ज्ञानवर्धन के लिए धन्यवाद. प्रयोग करने का पुरजोर प्रयास करूंगा.

    ReplyDelete
  16. लाइवराइटर का प्रयोग जब मैने किया था तो बहुत ही अच्‍छा लगा, किन्‍तु इसकी एक कमी थी कि यह फोटों नही प्रकाशित करता था। काफी दिनों से इसका प्रयोग नही किया पता नही क्‍या हालत है ? :)

    आप अकेले अकेले नीरज भाई से मिल लिये और सूचना भी नही दियें, कोई बात नही, मुलकात हुई इसकी सूचना मिली जान कर अच्‍छा लगा।

    बधाई

    ReplyDelete
  17. आपकी इस पोस्ट से हमें विंडोज लाइव राइटर की अच्छी जानकारी मिल गई. अब इंस्टाल कर लूं, फिर आगे की बात करूंगा.

    ReplyDelete
  18. बहुत कम लोग होते हैं जो अपने नाम को सार्थक करते हैं. आप उन कम लोगों में से हैं. क्या ज्ञान की अविरल धारा बहती है आप के ब्लॉग पर जिसे जितना भी ग्रहण करो कम ही पड़ता है.
    आपने आयातित "नीरज" के आने पर खुशी का प्रदर्शन किया ठीक है लेकिन मेरा अनुरोध है की कभी देसी "नीरज " को बुला कर या उसके यहाँ आ कर देखिये अगर आनंद न आए तो मेरा नाम "नीरस" रख दीजियेगा.
    "घर का जोगी जोगना बार गाँव का सिद्ध" वाली बात हुई ये तो.
    नीरज

    ReplyDelete
  19. निहसंदेह आपकी पोस्ट से हमें विंडोज लाइव राइटर की अच्छी जानकारी मिल गई.ज्ञानवर्धन के लिए, शुक्रिया !

    ReplyDelete
  20. विन्डोज लाइव राइटर के बारें मे जानकारी सबसे पहले आपकी ही पोस्ट से मिली थी (उस समय भी समझ कुछ नही आया था, सिर्फ़ इसके की आप इत्ती तारिफ़ कर रहे हैं तो अच्छी ही होगी) और जानकारी हासिल कर रही हूँ पर अभी तक इस्तेमाल करने की हिम्मत नहीं जुटा पाई।

    ReplyDelete
  21. ज्ञानदा, सच्ची मुच्ची की माफी मांग रहा हूं। पहले तो हमने ही आपको उकसाया कि तकनीक बताओ ? और जब बता दी तो आभार जतानेवाला ही गायब...

    क्या करें हम ब्लागस्पाट के ब्लाग देख नहीं पाते अपने पीसी पर । सुधरवाने का टाइम नहीं मिल पा रहा।
    वैसे ज्ञानदा हम अभिभूत हो गए हैं आपकी त्वरित मदद का माद्दा देखकर और तकनीकी ज्ञान देखकर । अब ये विंड़ोज़ लाइव राइटर तो एकदम ही नई ची़ज़ है हमारे लिए। देखते हैं कैसे उपयोग कर पाते हैं। प्रयास करता हूं।
    आप रेलवे में ज़रूर हैं मगर आपकी साख मेरे मन में बहुत मज़बूत हो चुकी है :)

    शुक्रिया एक बार फिर ..

    ReplyDelete
  22. ज्ञानदत्तजी,
    बातों के चक्कर में हम आपको इलाहाबाद का चक्कर लगवाना तो भूल ही गये, चलिये इस पर फ़िर कभी चर्चा होगी ।

    दूसरा आपने हमारा फ़ोटो कब कब में उतार लिया था, हमें तो पता भी नहीं चला, लगता है किसी हिडैन कैमरे का कमाल था :-)

    आज ही अपने घर वापिस आये हैं अब थोडा आराम करेंगे । इंटरनेट चालू हो गया है, अब ब्लालिंग चलती रहेगी ।

    ReplyDelete
  23. ज्ञानवर्धक पोस्ट.....शुक्रिया .

    ReplyDelete
  24. ज्ञानदा, बहुत बहुत धन्यवाद।
    आज हमने फिर मन लगा कर इस पोस्ट को पढ़ा। दिए गए ऑप्शंस को समझा फिर राइटर में जाकर उसे परखा । अब एकाध पोस्ट इसके जरिये डालते हैं।
    क्या टेस्ट ब्लाग पर लाइव राइटर के जरिये पोस्ट पब्लिश नहीं की जा सकती है ? अभी जो राइटर है वो तो शब्दों के सफर से जुड़ा हुआ है।

    ReplyDelete
  25. वाह जी वाह!!
    फिर तकनीकी आधारित पोस्ट!!!!
    वैसे पता नहीं क्यों कई बार बहुत सारे प्लगइन लगा कर कोशिश की विन्डोज़ लाइव राईटर से लिखने की????

    पर चूँकि मैं फोनेटिक इस्तेमाल करता हूँ सो उसका कोई प्लगइन अब तक नहीं मिला !!

    क्या कोई जुगाड़ हमारी समस्या का!!!

    वैसे आज कल में अपनी समस्या को ब्लॉग मदद में चेंपता हूँ |

    आप कहे नहीं वहां ट्यूटर बन जाते??

    ReplyDelete

आपको टिप्पणी करने के लिये अग्रिम धन्यवाद|

हिन्दी या अंग्रेजी में टिप्पणियों का स्वागत है|
--- सादर, ज्ञानदत्त पाण्डेय