Saturday, November 24, 2007

यदि हमारे पास यथेष्ट चरित्र न हो ---


यदि हमारे पास यथेष्ट चरित्र न हो तो हमारी शक्तियों की बजाय हमारी दुर्बलतायें ही अधिक प्रभावी होंगी, हमारे सौभाग्य की तुलना में हमारा दुर्भाग्य ही अधिक प्रबल होगा, हमारे जीवन में सुख शांति की जगह शोक विषाद की ही बहुतायत होगी और हमारे भविष्य की तुलना में हमारा अतीत ही अधिक गौरवशाली होगा।

यदि हमारे पास यथेष्ट चरित्र न हो तो हमारे मित्रों की अपेक्षा हमारे शत्रु ही अधिक सबल होंगे, शांति की तुलना में युद्ध ही अधिक होंगे, मेल मिलाप के स्थान पर हिंसा का ही आधिक्य होगा। यथेष्ट चरित्र के अभाव में हमारी रेलगाड़ियां समय से नहीं चलेंगी, कारखाने अपनी क्षमता के अनुरूप उत्पादन नहीं करेंगे; उद्योग धन्धे चौपट हो जायेंगे और खेतों से आशानुरूप फसल नहीं होगी।

यदि यथेष्ट चरित्र न हो तो हमारे मन्दिर व्यवसायिक केन्द्र बन जायेंगे और हमारे शिक्षाकेन्द्र कारखाने मात्र बन कर रह जायेंगे। हमारे पास यदि यथेष्ट चरित्र न हो तो हम ऐसे कार्यों को टालेंगे जो हमें पूर्ण बनाते हैं और उत्साह पूर्वक ऐसे कार्य करेंगे जो बरबादी लाते हैं। यदि यथेष्ट चरित्र न हो तो हमारे बांध बाढ़ को रोक नहीं सकेंगे, हमारे पुल बह जायेंगे और हमारे राजमार्ग जगह-जगह टूट कर जीवन का विनाश करेंगे।

यदि हमारे पास यथेष्ट चरित्र न हो, तो हमारी नगरपालिकायें गुटबन्दी के अड्डे बन जायेंगे, सड़कें कूड़े-कचरे से परिपूर्ण होंगी और हमारे कार्यालयों में कामचोरी का साम्राज्य होगा। यदि यथेष्ट चरित्र न हो तो हमारे नेता अपने नेतृत्व की खरीद-फरोख्त करेंगे, हमारे राजनैतिक दलों में फूट होगी, हमारे पुरोहित दुकानदारों के समान होंगे और व्यवसायी 'गला काटने' में आनन्द का अनुभव करेंगे।

Photo Sharing and Video Hosting at Photobucket 
यथेष्ट चरित्र के अभाव में हमारी रेलगाड़ियां समय से नहीं चलेंगी, कारखाने अपनी क्षमता के अनुरूप उत्पादन नहीं करेंगे; उद्योग धन्धे चौपट हो जायेंगे और खेतों से आशानुरूप फसल नहीं होगी।

यदि हमारे पास यथेष्ट चरित्र न हो, तो सेवा कार्यों की अपेक्षा आपराधिक कर्म ही अधिक होंगे, सुरक्षित स्थानों की तुलना में असुरक्षित स्थानों का ही बाहुल्य होगा, विश्वसनीय व्यक्तियों की अपेक्षा सन्दिग्ध लोगों की ही संख्या अधिक होगी। यदि हमारे पास यथेष्ट चरित्र न हो, तो युवक और युवतियां असंयमी होंगे, वृद्ध और वृद्धायें उत्तेजक तथा तारुण्यपूर्ण आचरण करेंगे, जिसके फलस्वरूप सरकार को अधिकाधिक पागलखाने खोलने की आवश्यकता होगी। यदि हमारे पास यथेष्ट चरित्र न हो, तो हमारी संस्कृति कामुकता का पर्याय बन जायेगी, हमारी कला धूल में मिल जायेगी और हमारा साहित्य शुद्ध इन्द्रियपरता में परिणत हो जायेगा।

यदि हमारे पास यथेष्ट चरित्र न हो, तो हमारे समाज में शांति-सामंजस्य, सुख-संयम और सच्चाई-ईमानदारी की तुलना में लड़ाई-झगड़ों, उत्तेजना-उपद्रव, भ्रष्टाचार तथा भाई-भतीजावाद का बोलबाला होगा। हमारे पास यथेष्ट चरित्र न हो, तो धन कमाने के लिये हम निम्न तथा कुरुचिपूर्ण भावों को बढ़ावा देने वाली चीजों को बेंच कर, लोगों की और यहां तक अपने बच्चों की अभिरुचि तक को भी भ्रष्ट कर डालेंगे। यदि हमारे पास यथेष्ट चरित्र न हो, तो धर्म निर्जीव अनुष्ठानों तक ही सीमित रह जायेगा, नैतिक मूल्य विकृत होकर विताण्डवाद में परिणत हो जायेंगे, लोकहित आत्मप्रशंसा के हेतु सामाजिक कार्य में, आध्यात्मिकता ऐहिकता में, ऐहिकता सुखवाद में और सुखवाद विनाश में परिणत हो जायेगा। (शेष कल ---)


स्वामी बुधानन्द की पुस्तिका - "चरित्र-निर्माण कैसे करें", अध्याय - 4 के अंश। 

अद्वैत आश्रम, कोलकाता से प्रकाशित। मूल्य रुपये 8 मात्र।  


14 comments:

  1. आस्था चैनल चालू आहे.

    ReplyDelete
  2. ज़ाहिर है.. हमारे पास यथेष्ट चरित्र नहीं है..
    पर सवाल यह भी है कि कितने लोगों के लिए इष्ट है ऐसा चरित्र?

    ReplyDelete
  3. संजय बेंगाणीNovember 24, 2007 at 10:35 AM

    बात सही है की चरित्र का उज्जवल होना अनिवार्य है. मगर ऐसे प्रवचन देने वाले बाबाओं का चरित्र ही शंका के घेरे में रहता आया है.

    आप जारी रखे, हम चरित्र पर ध्यान देने की कोशिश करेंगे.

    ReplyDelete
  4. चरित्र ब्रह्मचर्य की तरह होता है, जिसके बारे में आदरणीय श्रीलाल शुक्लजी ने लिखा है कि ब्रह्मचर्य की रक्षा जो नहीं करता, वह कुछ दिनों में इस स्थिति में पहुंच जाता है कि अगर वह ब्रह्मचर्य का नाश करना चाहे, तो भी नहीं कर सकता। संक्षेप में कहें, तो ब्रह्मचर्य का नियमित और लगातार नाश करना हो, पहले कायदे से उसे बनाना चाहिए।
    खैर मेरी भी राय है कि स्किल्स तो सिखायी जा सकती हैं, एकाध साल में, चरित्र बनाने में सालों लग जाते हैं।
    मैं सोच रहा हूं कि आर्ट आफ लिविंग स्कूल में भरती हो जाऊं।

    ReplyDelete
  5. सत्य वचन जी. यथेष्ट चरित्र हीनता के परिणाम तो हम देश और समाज के विभिन्न क्षेत्रों मे देख ही रहे है. आशा है कल के अंक मे आप यथेष्ट चरित्र निर्माण प्रक्रिया पर कुछ रोशनी डालेंगे. और हम सबके साथ थोडी बुद्धि अविनाश को भी प्रदान करेंगे. उन्हें सबसे ज्यादा जरुरत है.

    ReplyDelete
  6. स्वामी बुधानंद जी ने समशा की जड पर हाथ रखा है एवं उसकी बहुत स्पष्ट व्याख्या की है.

    उनके पुस्तक की इन पंक्तियों को पाठकों (मुझ) तक पहुंचाने के लिए शत शत आभार !

    -- शास्त्री

    ReplyDelete
  7. अच्छा लिखा है। आगे की कडियो की प्रतीक्षा है। आप यदि इस पर अधिक लिखेंगे तो कन्ही विश्व चरित्र निर्माण दिवस मनना न शुरू हो जाये। फिर साल मे एक दिन चरित्र की बाते होंगी और शेष दिन इसे ताक पर रख दिया जायेगा। :)

    ReplyDelete
  8. संजय बेंगानी> मगर ऐसे प्रवचन देने वाले बाबाओं का चरित्र ही शंका के घेरे में रहता आया है.
    स्वामी बुधानन्द इस प्रकार के बाबाई चरित्र नहीं थे। आप कॄपया यह पोस्ट पढ़ें| पावरप्वाइण्ट शो को डाउनलोड कर देखने/आत्मसात करने का यत्न करें। और भविष्य में पोस्ट प्रस्तुत करने वाले के चरित्र पर विश्वास कर टिप्पणी करने की कॄपा करें। मैं किसी लम्पट का लिखा अपनी पोस्ट पर ठेलने की चेष्ठा नहीं करता।
    मैं न्यूनतम रूप से आप से खेद व्यक्त करने की अपेक्षा करता हूं।

    ReplyDelete
  9. ह्म्म, जब बड़े बुजुर्ग चरित्र, ब्रह्मचर्य आदि पर उपदेश, प्रवचन आदि की बातें करें तो बच्चों को उसे सुनते हुए धीरे से कल्टी हो जाना चाहिए और वही मैं कर रहा हूं, चुपचाप इधर से सरक लेता हूं!!

    ReplyDelete
  10. गलत, बिलकुल गलत. सच यह है कि यदि हमारे पास यथेष्ट चरित्र न हो तो हम सर्वाधिक शक्ति सम्पन्न हो जाएंगे. आपकी बाट से मुझे ऐसा लगता है ज्ञान भैया कि आप न तो अखबार पढ़ते हैं और न सिनेमा देखते हैं. कभी-कभी संसद की कार्रवाई तो देख लिया करिये. बाक़ी बाबा लोगों को कहने दीजिए. अव्वल तो बात ये है कि अगर यथेष्ट चरित्र से चलाएं तो आश्रम भी नहीं चलेंगे.

    ReplyDelete
  11. संजय बेंगाणीNovember 24, 2007 at 6:50 PM

    ज्ञानजी मैं अपनी बात सही तरीके से नहीं लिख पाने के लिए खेद प्रगट करता हूँ. मेरा आशय बुधानन्दजी से नहीं था. एक आम बाबाजी के बारे में जो धारणा है वह व्यक्त की थी.

    पूनः क्षमा चाहता हूँ, आशा है अब आप तक मेरी बात सही सही पहूँची है.

    ReplyDelete
  12. ज्ञानजी भाई साहब
    आप पुलकोट में और लेख में फोन्ट की साइज एक ही रखते हैं उसमें थोड़ा सा फर्क रखिये, यानि पुलकोट में फोन्ट की साईज छोटी। उसके लिये font size="2" के बाद पुलकोट का मैटर लिख कर /font से बंद कर दें। /फोन्ट के आगे पीछे <> का निशान लगा लेवें। अगर मैं यहाँ करूंगा तो यहीं मैटर छोटा हो हायेगा। :)

    यहाँ पता नहीं यह लिखे शब्द सही प्रकट होंगे कि नहीं, अगर नहीं हुए तो मेल में भेजूंगा।

    ReplyDelete
  13. @ संजय - चलिये, गलतफ़हमी दूर हुयी।
    @ नाहर - धन्यवाद जी।

    ReplyDelete
  14. इसमें कोई संदेह नहीं कि चरित्र मनुष्य का आंतरिक आभूषण होता है जो उसके भावनात्मक पक्ष को मजबूती प्रदान करता है , अच्छा लिखा है। आगे की कडियो की प्रतीक्षा है। धन्यवाद ।

    ReplyDelete

आपको टिप्पणी करने के लिये अग्रिम धन्यवाद|

हिन्दी या अंग्रेजी में टिप्पणियों का स्वागत है|
--- सादर, ज्ञानदत्त पाण्डेय