Wednesday, October 1, 2008

टाटा नैनो, बाय-बाय!


TataNano नैनो परियोजना बंगाल से जा रही है। मशीनरी बाहर भेजी जा रही है। चुनाव का समय आसन्न है। साम्यवादी शासन मुक्त हुआ। अब जनता में सर्वहारा समर्थक छवि लाई जा सकती है।

ब्लॉगजगत में भी अब मुक्त भाव से उद्योगपतियों की निंदा वाली पोस्टें आ सकती हैं।

टाटा नैनो, बाय-बाय!

यह नैनो (गुजराती में नानो – छोटा या माइक्रो) पोस्ट लिख तो दी पर अभियक्ति का जो तरीका बना हुआ है, उसमें यह छोटी पड़ रही है। अब मुझे अहसास हो रहा है कि जैसे मुझे माइक्रो पोस्ट नहीं पूरी पड़ रही, फुरसतिया सुकुल को छोटी पोस्ट लिखना क्यों नहीं रुचता होगा। हर एक को अपनी ब्लॉग रुचि के हिसाब से पोस्ट साइज ईजाद करना पड़ता है। जब हम की-बोर्ड के समक्ष बैठते हैं तो पोस्ट की परिकल्पना बड़ी नेब्युलस (nebulous – धुंधली) होती है। वह की-बोर्ड पर आकार ग्रहण करती है। पर सम्प्रेषण की लम्बाई की एक सोच मन में होती है। उसको अचीव किये बिना नौ-दो-इग्यारह होने का मन नहीं करता।

पता नहीं साहित्य लेखक भी इसी प्रकार से लिखते हैं अथवा उनके मन में लेखन की डीटेल्स  बहुत स्पष्ट होती हैं। ब्लॉग पर तो अपनी विषयवस्तु प्री-प्लॉण्ड पा लेना कठिन लगता रहा है; लेकिन ब्लॉगिंग में अपने साइज की पोस्ट पा लेना भी एक सुकूनोत्पादक बात है! नहीं?

लगता है पोस्ट की लम्बाई पर्याप्त हो गई है – अब पब्लिश की जा सकती है!smile_regular


Business Standard कल मेरे लिखे से गलत सम्प्रेषण हो गया कि मैं अखबार खरीदकर नहीं पढ़ता हूं और हिन्दी तो पढ़ता ही नहीं! अत: यह व्यक्तिगत बात मैं स्पष्ट कर दूं कि मैं तीन अखबार नियमित लेता हूं और उनके पैसे भी देता हूं। हिन्दी और अंग्रेजी के जनरल न्यूज पेपर परिवार में बाकी सदस्य झटक लेते हैं।Crying 10
मेरे लिये केवल कारोबार जगत का अखबार बचता है – जो मैं दफ्तर के रास्ते में पढ़ता हूं। यह कारोबारी अखबार है बिजनेस स्टैण्डर्ड। वह हिन्दी में लेता और पढ़ता हूं। 

25 comments:

  1. नैनो के बहाने बात बड़ी कर गये आप. वैसे व्यक्तिगत तौर पर मुझे लगता है कि अपनी बात कहने के लिए जितने बड़े मे खुद की बात खुद को स्पष्ट हो जाये, बस उतना ही लिखना पर्याप्त है. किन्तु जिस तरह बातचीत में वैसे ही लेखन में, कोई दो शब्दों में अपनी बात समझा जाता है तो कोई १०० में भी नहीं कह पाता और इस हिसाब से लेखक के लेखन का एक लगभग स्टैन्डर्ड साईज सा बन जाता है. मात्र मेरी सोच है.

    ReplyDelete
  2. वैसे अखबार क्या पढते हैं किस भाषा में पढते हैं...जैसा स्पष्टीकरण न भी देते तो चलायमान था.....अब दे दिया तो दौडायमान हो गया.....न देते तो ठीकायमान होता :)

    ReplyDelete
  3. किसी भी आलेख का रूप, आकार उस की विषयवस्तु (कंटेंट) तय करती है। इस लिए माइक्रो और मिनि के विचार से मुक्त हों और सहज हो कर लिखें।
    मन चंचल है इसी लिए मानसिक हलचल है। जो भी आए विचार लिखते रहिये वही आप की विशेषता है। विचारों को नदी की तरह अबाध बहने दीजिए। वे किसे जिलाते हैं? किसे बहाते हैं? इस चिन्ता से मानसिक हलचल बाधित होगी।

    ReplyDelete
  4. नैनो पोस्ट सफल रही है , साम्यवादियों की उलझन मिटाने में ! आप लिख रहे हैं अभिव्यक्ति का जो तरीका है उसमे यह नैनो
    पोस्ट छोटी पड़ रही है ! आपकी बात से सहमत नही हूँ ! बल्कि यह कहूंगा की माइक्रो/नैनो में अपनी पुरी बात कहने में आपने
    महारत हासिल कर रखी है ! ज़रा हमारे सर पर भी हाथ रख दीजिये !

    ReplyDelete
  5. सही कहें तो आपकी माइक्रो पोस्ट हमें भी नहीं जमेगी क्योंकि मानसिक खुराक की एक तयशुदा डोज लेने की आदत पड़ गयी है. इससे कम में मजा नहीं आएगा.

    नैनो का बंगाल से निकलना दुखद है. मुझे उस सभी से (खास तौर पर मजदूर वर्ग से) सहानुभूति है जिनके रोजगार के अवसर इस अवसरवादी राजनीति की भेंट चढ़ गए.

    ReplyDelete
  6. नानो पोस्ट = नावक के तीर!
    पेट्रोल के दाम बढ़ रहे है तो कार तो नानी होनी चाहिए थी - क्या होगा सर्वहारा का? बाबा नागार्जुन के शब्दों में:
    इसी पेट के अन्दर समा जाय सर्वहारा - हरी ॐ तत्सत!

    ReplyDelete
  7. पोस्ट का साइज नैनो हो या भूतपूर्व अदनान सामी वाला, कोई फर्क नहीं पड़ता जी। बात होनी चाहिए। सो आप पर बोरा भर के हैं। जमाये रहिये। अब तो बिजनेस भास्कर भी आ लिया है। हिंदी में बहुत आर्थिक अखबार हो गये हैं। बस दुआ यह की जानी चाहिए कि ये सब चल जायें। हिंदी में आर्थिक अखबार आते हैं, पर चल नहीं पाते। देखिये अब क्या होता है।

    ReplyDelete
  8. ज़मीन तो सारी भूमी सुधार के नाम पर बांट दी,अब उद्योग लगने नही हैं,बेरोज़गारी भी रोज़ बढ रही है।इसलिये बंगाल मे उद्योग लगना ज़रुरी है,ये मैं नही कह रहा हूं,प्रकाश करात ने रायपुर में कहा था। अब टाटा बंगाल को टाटा कर रह है,कहां से लाओगे रोज़गार। आपने सटीक लिखा है अब निंदा पुराण शुरु हो जयेगा।

    ReplyDelete
  9. नैनो वाली बात सही लिखी.

    ReplyDelete
  10. आप नैनो या माइक्रो लिखे आप अपनी बात कह जाते है ।

    नैनो के बहाने बात बड़ी कर गये आप. वैसे व्यक्तिगत तौर पर मुझे लगता है कि अपनी बात कहने के लिए जितने बड़े मे खुद की बात खुद को स्पष्ट हो जाये, बस उतना ही लिखना पर्याप्त है. किन्तु जिस तरह बातचीत में वैसे ही लेखन में, कोई दो शब्दों में अपनी बात समझा जाता है तो कोई १०० में भी नहीं कह पाता और इस हिसाब से लेखक के लेखन का एक लगभग स्टैन्डर्ड साईज सा बन जाता है. मात्र मेरी सोच है.
    agree ।

    ReplyDelete
  11. ओर अब हमारी ममता सोनिया से मिलने आयी है ......नैनो के लिए नानी (छोटी) पोस्ट

    ReplyDelete
  12. आपकी माइक्रो पोस्ट से भी हम समझ गए जो आप कहना चाहते हैं....इसका मतलब छोटा हमेशा खोटा नहीं होता!

    ReplyDelete
  13. पोस्ट की लम्बाई पर ज्यादा ध्यान देंगे, तो परेशान हो जाएंगे। मेरी समझ से जो लिखना है, लिखते रहें, लम्बाई चौडाई पर ध्यान मत दें। जिसे पढना होगा, वह पढेगा ही और कमेंट भी करेगा।

    ReplyDelete
  14. संक्षिप्तता वक्तृता की आत्मा है -यह किस प्रुमुख अंगरेजी के जुमले का अनुवाद है -मेरा माईक्रो जवाब !

    ReplyDelete
  15. सभी की बात यही कह रही है
    आपसे सहमति की :)
    - लावण्या

    ReplyDelete
  16. bye-bye hee hotee rahegee ? ya kabhee kisi ke haath bhee lagegee ?

    ReplyDelete
  17. आकार से बेहतर पोस्ट की खुराक लगी वैसे यदि खुराक बढ़िया है तो आकार कोई मायने नहीं रखता। ये मेरी सोच है।

    ReplyDelete
  18. यह माइक्रो पोस्ट है बड़ा मजेदार आइटम...। आइडिया आते ही मिनट भर में पोस्ट तैयार। आज मैने भी आजमाया है।

    वैसे पोस्ट की लम्बाई कम ही ठीक है जितने से जरूरी बातें कवर हो जाएं। अनावश्यक विस्तार से आकर्षण चला जाता है। बिलकुल स्कर्ट की तरह ठीक-ठीक लम्बाई ही रखनी चाहिए।

    ReplyDelete
  19. माइक्रो और मैक्रो का गठबंधन है यह पोस्ट। गठबंधन स्थायी नहीं हो रहा आजकल। सो एक पर आइये। अखबार पाने के लिये आवाज उठाना पड़ेगी। जैसे आज समीरलालजी ने उठाई -हम जाग गये हैं कहकर!

    ReplyDelete
  20. भाई ज्ञान दत्त जी,
    अपने यंहा तो पहले ही कहा गया
    " देखन में छोटे लगे, घाव करत गंभीर."
    फिर आपकी नानो पोस्ट भी तो समझने वालों के लिए बहुत कुछ कह जाती है.
    keep it up

    चन्द्र मोहन गुप्त

    ReplyDelete
  21. मुझे याद आ रहा है, कोई सवा साल पहले (जब मैं ने ब्‍लाग लिखना शुरु किया ही था, उन्‍हीं दिनों) आपने ब्‍लागियों को कुछ नेक सलाहें दी थीं उनमें से एक थी कि पोस्‍ट का आकार 250 शब्‍दों से अधिक का न हो तो उसकी पठनीयता और पाठक संख्‍या बड जाती है ।
    अपने विस्‍तारित लेखन से मैं खुद परेशान हूं । 'एक पंक्ति' ने मुझे दुलराते हुए कहा था - 'आपकी पोस्‍ट में कण्‍टेण्‍ट तो होता है लेकिन बडी पोस्‍ट प्राय: ही अनदेखी रह जाती है ।'
    आज फिर पोस्‍ट की 'साइज' पर बात चली है । मुझे यह देख कर अच्‍छा लग रहा है कि मुझ जैसे अदनान सामियों का हौसला बढाया जा रहा है ।
    सही बात तो यही है कि पोस्‍ट न तो अनावश्‍यक छोटी हो और न ही अनावश्‍यक बडी । जहां बात पूरी हो जाए वहीं लग जाए पूर्ण विराम ।

    ReplyDelete
  22. सिर्फ सोचने की बात है कि जिन प्रदेशों ने रतन टाटा को नैनो का प्लांट लगाने के लिये अपने यहाँ बुलाने के लिये बाँहें फैलाई हैं, वहाँ के किसानों की आत्महत्यायों की खबरें कितनी हैं और नैनो को ठुकराने वाले पश्चिम बंगाल के किसानों की कितनी।

    ReplyDelete
  23. हंसु या ना हंसू, मे तो वापिस जाने लगा था . सोचा पुरानी पोस्ट पर पहुच गया हु , लेकिन धयान से देखने पर पता चला की यह तो माइक्रो पोस्ट हे
    ध्द( यह धन्यवाद माइक्रो मे लिखा हे)

    ReplyDelete
  24. लाज़बाब पाण्डेय जी नानो नहीं बहुत मोटा ( गुजराती में) आपकी पोस्ट
    बधाई स्वीकारें समय निकाल कर मेरे ब्लॉग पर भी पधारे

    ReplyDelete

आपको टिप्पणी करने के लिये अग्रिम धन्यवाद|

हिन्दी या अंग्रेजी में टिप्पणियों का स्वागत है|
--- सादर, ज्ञानदत्त पाण्डेय