Tuesday, October 14, 2008

आज सवेरा न जागे तो मत कहना



मेरी पत्नीजी ने कबाड़ से मेरी एक स्क्रैप बुक ढूंढ़ निकाली है। उसमें सन १९९७ की कुछ पंक्तियां भी हैं।

यूं देखें तो ब्लॉग भी स्क्रैप बुक ही है। लिहाजा स्क्रैप बुक की चीज स्क्रैप बुक में -

Dawn

आज सवेरा न जागे तो मत कहना
घुप्प कोहरा न भागे तो मत कहना

दीवारों के कानों से छन जाये अफवाह अगर
तो झल्ला कर व्यर्थ अनर्गल बातें मत कहना

रेत के टीलों पर ऊंचे महल बनाने वालों
तूफानों के न चलने के मन्तर मत कहना

मेरा देश चल रहा कछुये की रफ्तार पकड़
खरगोश सभी अब सो जायें यह मत कहना

मैं नहीं जानता – कितनी पी, कितनी बाकी है
बोतल पर मेरा हक नाजायज है, मत कहना

बेसुरे गले से चीख रहे हैं लोग मगर
संगीत सीखने का उनको अधिकार नहीं है, मत कहना

इस सड़क पर चलना हो तो चलो शौक से
इस सड़क पे कोई और न चले, मत कहना

--- ज्ञान दत्त पाण्डेय, १३ अगस्त, १९९७, उदयपुर।


और छन्द/मात्रायें/प्यूरिटी (purity – शुद्धता) की तलाश भी मत करना। 

कोई प्रिटेंशन्स (pretensions – मुगालते) नहीं हैं उस दिशा में। Blushing 2

52 comments:

  1. इस सड़क पर चलना हो तो चलो शौक से
    इस सड़क पे कोई और न चले, मत कहना

    बहुत खूब, जियो और जीने दो!

    ReplyDelete
  2. जो मित्र १९९७ में २००८ से बेहतर कवि था,
    उसे आज अनजाने में वाह वाह मत कहना!!

    --क्या बात है!!! सुभान अल्लाह!! भाभी को नमन...उनसे कहें कि और कबाड़ छानें..उसमें कुबेर छिपा है.

    ReplyDelete
  3. हमेँ आपका यह क़वि स्वरुप बहुत पसँद आया -समीर भाई से सहमत !
    सौ.रीटा भाभी जी खोज जारी रहे :)
    -लावण्या

    ReplyDelete
  4. आपकी बहुत पुरानी कविता पढ़ ली है, नींद आ रही है..सोने जा रहे हैं (रात के २ बज चुके हैं), कल मिलेन्गे।
    नमस्कार!

    ReplyDelete
  5. कविता तो काफी अच्छी लगी.....पर अंतिम चार लाईनें अभी सोनी टीवी पर चल रहे इंडियन आईडल की एक घटना की याद दिला गये। हुआ यूँ कि कोई भानु नाम का लडका पिछले तीन साल से ईंडियन आईडल के चक्कर मे पडा हुआ है और वो लगभग हर बार नाकाम हो जाता है। अभी पिछले दिनों जब उसे गाने के लिये इंडियन आईडल मे बुलाया गया तो अन्नू मलिक ( पता नहीं क्यों मुझे ये शख्स कभी पसंद नहीं आया) ने उस भानु को कहा कि तुम संगीत छोड कर कुछ और करो, कोई बैक-अप रखो....ये नहीं कि सिर्फ इंडियन आईडल बनने के नाम पर अपने काम-धाम छोड कर यहाँ अपना समय वेस्ट करों। हाँलाकि अन्नू मलिक ने उस फफक कर रो पडे भानु के भले के लिये ही यह बात कही थी लेकिन मैं तब सोच मे पड गया था कि बात तो सच है - क्यों आखिर लोग इस मायावी दुनिया के पीछे बेतहाशा भाग रहे हैं। अन्नू मलिक को तो मैं वैसे भी पसंद नहीं करता....लेकिन कहीं एक बात थी जो उस अन्नू मलिक की जो लग गई । खैर आपकी ये अंतिम चार लाइनें - उसी वाकये की याद दिला गईं।


    बेसुरे गले से चीख रहे हैं लोग मगर

    संगीत सीखने का उनको अधिकार नहीं है, मत कहना


    इस सड़क पर चलना हो तो चलो शौक से

    इस सड़क पे कोई और न चले, मत कहना

    ReplyDelete
  6. अरे वाह क्या बात है भाई
    छोड़ रखी है क्यों कविताई
    कम लिख के जब ऐसी मार
    ज्यादा की है क्या दरकार

    बहुत खूब है ज्ञान जी. गंगा का पुल बहुत खींचता है अपनी तरफ़.

    ReplyDelete
  7. आते आते देर हो गई हो हमें भले पर
    टिप्पणी नहीं की है यह मत कहना !

    बढ़िया है ,
    पर आज तो उल्टा -पुल्टा है सब

    ReplyDelete
  8. छन्द/मात्रायें/प्यूरिटी (purity – शुद्धता) की तलाश
    इस चेतावनी की आवश्यकता नहीं थी। रचना बहुत सुंदर है। आकांक्षाओं को बहुत अच्छे से अभिव्यक्त करती है।

    ReplyDelete
  9. मानसिक हलचल के भीतर कवि भी छुपा है, अंतिम लाईन चकाचक। कबाड़खाने की सफाई जारी रखी जाय प्लीज

    ReplyDelete
  10. मैं इस प्रतीक्षा में हूँ कि मान्यवर अनूप शुक्ल जी इसे ग़जल कब घोषित करेंगे। मुझे तो कुछ-कुच वैसा ही लग रहा है। लेकिन जबतक उस्ताद न मान जाँय, तबतक तो अनुमान ही कर सकता हूँ।:)

    ReplyDelete
  11. वाह वाह ज्ञान जी आप तो छा गए -इतने गहन भाव और पुरजोर शिल्प की कविता काफी अरसे के बाद पढने को मिली है .यह एक हीकविता आपको प्रोफेसनल कवि ( यदि कवि प्रोफेसनल होता हो !) कतार में ला देती है .यह आपका कवि ही है जो ब्लॉग जगत में भी सिक्का जमाये हुए है .
    नग्न यथार्थों /विरूपताओं से कवि का साबका और फिर सलीके से विरोध / प्रतिकार की मनाही का अर्थ गाम्भीर्य ने कविता को एक कालजयी कलेवर दे दिया है .

    ReplyDelete
  12. इस सड़क पर चलना हो तो चलो शौक से
    इस सड़क पे कोई और न चले, मत कहना

    बहुत बड़ी सोच के साथ यथार्थवादी रचना लिखी गई है ! और भी इसके साथ की रचनाएं उस स्क्रेप बुक में जरूर होंगी ! कृपया उन्हें भी जरुर हमें पढ़वाए ! वैसे मेरा एक सजेशन है की आप एक दिन कविता के लिए जरुर तय कर दे ! क्योंकि आप इस विधा में भी माहिर हैं ! बहुत शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  13. अरे फिर पढने पर इस कविता के नए रूप भी उद्घाटित हो रहे है -वह है मानवीय लालसाओं की अदम्य उछाल और उसके विरुद्ध कुछ भी न सुनने की मनुहार ! हर पंक्ति अलग अलग अर्थों को सजोये हुए है.
    समीर भाई यह आपके लिए खतरे की घंटी है ! देखना है अनूप शुल्क जी कैसे प्रतिवाद के साथ आते है -कहीं आज उनकी भी बोलती ना बंद हो जाय ! आज का दिन तो ज्ञान जी के नाम इस नए ज्ञानोदय के नाम !

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  15. राम चन्द्र भाई साहब की टिप्‍पणी ऐसी लग रही है कि ज्ञान जी ने उन्‍हे पकड़ कर टिप्‍पणी करवा रहे थे। :)

    वाकई आपकी कविता बहुत अच्छी लगी।

    ReplyDelete
  16. वाह आप तो कवि भी हैं और हमें पता ही नहीं?

    ReplyDelete
  17. भाई ज्ञान दत्त जी,

    पुराने चावल की महक ही कुछ विशेष होती है. धन्यवाद तो हमें भाभी जी को देना होगा जिन्हों ने पुराने चावल की पहचान कर उसे हम पाठकों तक परोसने के लिए आपको प्रेरित किया.
    इतनी अच्छी रचना पर हार्दिक बधाई स्वीकार करें.

    चन्द्र मोहन गुप्त

    ReplyDelete
  18. मान गये गुरु जी आपको।1997 मे पता चल गया था आपको कि देश कछुआ है,देश मे अफ़वाहों का दौर चलेगा,बेसुरे लोग गला फ़ाड-फ़ाड चिल्लायेंगे।वाह गुरु जी वाह,सब कुछ वैसा ही चल रहा है अपने देश में। आपको नमन करता हूं,आदरणीय भाभीजी से निवेदन(मुझे लगता है घर मे किये गये निवेदन को बाहर आदेश कहते होंगे)कर लिजीये कुछ और स्क्रैप निकाल दें तो देश के भविष्य पर कुछ और रौशनी डल जायेगी।किस कलम से लिखते थे गुरुजी,उसकी धार आज भी बाकी है।ताजे से तो बासी(छत्तीसगढ मे चावल को पानी मे भिगो कर बनाते है बासी)अच्छा लग रहा है।

    ReplyDelete
  19. लो जी अब कविता भी, वह भी अंतिम पंक्ति में दमदार पंच के साथ. कमाल है जी आपका कबाड़, क्या क्या छिपा रखा है! बहुत सुन्दर.

    ReplyDelete
  20. अरे वाह!
    जब ब्लॉग कविता के रूप में प्रस्तुत किया जाता है तो क्यों न टिप्पणी भी कविता में न हो?
    जरा इस नीम हकीम कवि कि पेशकश देखिए।

    पहली पंक्ति में १० शब्दांश हैं।
    दूसरी में १३।

    यदि मैं पास हो गया तो पाठकों पर एक और कवि थोंपने की जिम्मेदारी केवल आपके सर पर होगी। रीताजी से कहिए खोज जारी रखें। क्या पता कबाड़ भंडार में और कितने खज़ाने छुपे हैं। आज हम दोनों केवल कवि बन गए हैं। अब आगे और क्या बनना है यह रीताजी को ही निश्चय करने दो। यह रही मेरी पहली कोशिश। Read at your own risk.
    =============

    आपके विचार आपको मुबारक हो।
    हम अपने विचार व्यक्त न करें यह मत कहना।

    आपका भगवान आपको सद्बुद्धी दें।
    हमारा भगवान, भगवान नहीं यह मत कहना।

    आप अणुशक्ति का प्रयोग करें।
    अपितु हम कभी न करें यह मत कहना।

    ओ ज्ञानी, आप कविता लिखते हैं।
    हम भी कभी कोशिश न करें यह मत कहना।
    =================

    ReplyDelete
  21. इस सड़क पर चलना हो तो चलो शौक से
    इस सड़क पे कोई और न चले, मत कहना
    bahut sunder sarans

    ReplyDelete
  22. पीते थे, जमकर, ये इस कविता से क्लियर है
    कहें सब अब पियक्कड़ तो फिर हम से ना कहना

    हम तो समझे थे कि इंसान भले चंगे हैं
    अब मान लें सभी कविं, तो फिर हम से ना कहना

    कूड़े में ही हीरे भी हैं, बात ये फिर से साफ हुई
    पहले ना बतलायी थी ये, ये फिर हम से ना कहना

    ReplyDelete
  23. सर, कविता बहुत बढ़िया लगी। एक भाई ने टिप्पणी दी है कि कबाड़ की सफाई जारी रखी जाये--मेरा भी यही विचार है, पता नहीं उस में ऐसे ही कितने अनमोल मोती छुपे पड़े हैं.
    शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  24. इस सड़क पर चलना हो तो चलो शौक से
    इस सड़क पे कोई और न चले, मत कहना

    क्या जानदार बात कही आपने !! आपकी धांसु टिप्पणी तो अकसर देखा करता हुँ अब आपके धांसु पोस्ट की भी आदत हो रही है!!

    ReplyDelete
  25. बहुत बढ़िया है...कबाड़ में खोजबीन जारी रहे.....

    ReplyDelete
  26. बहुत बढ़िया कविता है़

    ReplyDelete
  27. और किसी को सड़क पर चलने से मत रोकना /कविता शुरू कहाँ से की और खत्म कहाँ की /पांडेयजी -मध्य प्रदेश घुमाकर मुम्बई ले जाकर पटका

    ReplyDelete
  28. बढ़िया है यह .

    रेत के टीलों पर ऊंचे महल बनाने वालों
    तूफानों के न चलने के मन्तर मत कहना

    ReplyDelete
  29. कोयले में हीरा मिलता है आपके कबाड़ में मोती निकलने लगे हैं !

    ReplyDelete
  30. भाई जी !
    इस कविता में बेहतरीन उद्गार हैं, इस स्क्रेप बुक को सबके सम्मुख लाने का शुक्रिया !

    ReplyDelete
  31. reeta di,aur padhvaaiye....:)

    ReplyDelete
  32. ये जो स्क्रैप है उसको पता नहीं लोग कविता-कविता कर रहे हैं। यह तो कविमना व्यक्तित्व की पोल है। इससे साफ़ पता चलता है कि कवि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का घणा विरोधी है। हर चीज के लिये मना करता है। यह मत कहना वो मत कहना। ऐसे कहीं होता है क्या? स्क्रैप बुक के उद्गार भारतीय संविधान के खिलाफ़ है जी।

    ReplyDelete
  33. मेरे ख्याल से मैं सबसे अंत में आयी हूँ और अचंभित हूँ कि ज्ञान जी कवि?…… और वो भी ऐसे प्रभावी कवि कि विश्वनाथ जी समेत कई ब्लोगर कवि हो गये और सच में अनूप जी की बोलती बंद हो गयी( कहीं हैरानी से आखें चौड़ी तो नहीं हो गयीं) रीटा जी मानसिक हलचल की लाइट हाउस बन गयी हैं , अभिनंदन, थ्री चीयरस फ़ोर हर

    ReplyDelete
  34. हा हा , तो अनूप जी कि टिप्पणी प्रकाशित नहीं हुई थी लेकिन हो चुकी थी हमारे आने से पहले। ज्ञान जी आप एक कविता और ठोक दीजिए, ये कहते हुए ब्लोगर बनने के पहले, ब्लोगर बनने के बाद्…।:)

    ReplyDelete
  35. बेसुरे गले से चीख रहे हैं लोग मगर
    संगीत सीखने का उनको अधिकार नहीं है, मत कहना

    बहुत अच्छी कविता और क्या कहूँ ..सुंदर ज्ञान जी,बहुत सुंदर.

    ReplyDelete
  36. हमेशा की तरह से सब से बाद मै... आज की कविता बहुत अच्छी लगी... यह कविता लगती तो आजकल के हालात पर ही है, लेकिन आओ कह रहै है पुरानी है....
    रेत के टीलों पर ऊंचे महल बनाने वालों
    तूफानों के न चलने के मन्तर मत कहना
    बहुत ही सुन्दर...
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  37. अरे वाह, पढकर और यह जानकर कि आपने चित्रों के साथ कविता लिखी थी अच्‍छा लगा ।

    ReplyDelete
  38. जे का है दद्दा! कविता और आप, रिश्ता किधर से निकल आया?

    मैं नहीं जानता – कितनी पी, कितनी बाकी है
    बोतल पर मेरा हक नाजायज है, मत कहना

    बस-बस, आगे नई पूछूंगा, समझ में आ गया ;)

    ReplyDelete
  39. बेसुरे गले से चीख रहे हैं लोग मगर
    संगीत सीखने का उनको अधिकार नहीं है, मत कहना

    hame to ye baat sabse jyada jami....aaj ke reality shows par fit baithti hai.

    ReplyDelete
  40. 1997 में कविता यात्रा को विराम क्‍यों दे दिया ज्ञानजी । इसे भी अपनी नौकरी का हिस्‍सा बना लेते तो अब तक तो कविता की कई एक्‍सप्रेस रेलें लोगों को मिल चुकी होतीं ।
    अब भी देर नहीं हुई है । हम आपकी ऐसी एक्‍सप्रेस के यात्री बनने को तैयार हैं ।

    ReplyDelete
  41. इस सड़क पर चलना हो तो चलो शौक से
    इस सड़क पे कोई और न चले, मत कहना

    आपके कवि स्वरुप की ये रचनाएँ आह्लादित करती हैं. अब विडम्बना देखिये कि आपने सड़क पर शौक से चलने की इजाज़त क्या दिया, इस देश के सभी "आदरणीय सड़क उपभोक्ता नागरिक गण" सड़कों पर "शौक" से ही चलते हैं और दूसरों से उम्मीद भी आपकी दूसरी पंक्ति की तरह ही करते हैं. सच में 1947----1997 से अब 2008 तक कुछ भी नहीं बदला. स्क्रैप बुक पढ़वाते रहें, कई काम की बात निकलेगी.

    ReplyDelete
  42. आज सवेरा न जागे तो मत कहना
    घुप्प कोहरा न भागे तो मत कहना

    मेरा देश चल रहा कछुये की रफ्तार पकड़
    खरगोश सभी अब सो जायें यह मत कहना

    बेसुरे गले से चीख रहे हैं लोग मगर
    संगीत सीखने का उनको अधिकार नहीं है, मत कहना

    इन शेरों में जिंदगी की गमक देखने को मिली। बधाई।

    ReplyDelete
  43. ज्ञानजी,
    कभी सोचा भी था आपने कि इस पोस्ट पर ४४ टिप्पणियाँ मिलेंगी?
    यह लीजिए पैंतालीस्वी टिप्पणी।
    इस भंडार से निकालिए अपनी अगली कविता/पोस्ट।
    क्या अब भी आप को चुक जाने का डर है?
    क्या अब भी आप वैराग्य के बारे में सोच रहे है?
    एक बात पूछना चाहता था।
    क्या आप अपने ब्लॉग पर छोटे छोटे streaming sound clips सम्मिलित कर सकते हैं। यदि हाँ तो कितने मेगाबाईट की सीमा तय करेंगे?
    सोच रहा हूँ मित्रों की आवाज सुनना कितना अच्छा लगेगा।
    यदि कोई अच्छा गा लेता है तो हम सुनने के लिए उत्सुक हैं।
    इस पर भी विचार कीजिए।
    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  44. वाह ! क्या बात है. लाजवाब कविता है. पर शिकायत है कि आज कल यह कवि क्यों अपने काव्य कला को वनवास दिए हुए है.चलिए इसी बहने उसका उद्धार कीजिये और यह काव्यात्मक प्रयोग जरी रखिये.आभार और शुभकामना.

    ReplyDelete
  45. भैय्या सोच रहा हूँ की जिसकी स्क्रेप बुक में इतनी शानदार रचनाएँ भरी पड़ी हैं उसकी वर्क-बुक में क्या होगा..??? भाभी जी से कहना पड़ेगा कभी आप की बुक शेल्फ की भी सफाई करें...ताकि हम जैसे काव्य प्रेमियों का भला हो.
    नीरज

    ReplyDelete
  46. Why are you wasting the time of your own as wellas of others, it will be better to go to nearby sabzee mandi and try to sell some egg plants I hope that will be better. Is this Kavita! as you people are telling. Shameful.
    Akp

    ReplyDelete
  47. Dear Arun Kumar,

    Thank you for provoking me to waste some more of my time, your time and the time of others.
    How much time did you waste on writing this comment?

    Please do us the favour of wasting some more time in reading this reply and if we are fortunate, we should see you wasting even more time in penning a fitting rebuttal to this comment too.

    We would love to read your reaction to this in the same poetic style that Gyanji has adopted and which I am emulating.

    अरुणजी आप चाहे इसे कविता न समझें।
    हम भी इसे कविता न समझें यह मत कहना।

    आपका अमूल्य समय आपको मुबारक हो।
    हम अपना समय बरबाद न करें यह मत कहना।

    ReplyDelete
  48. आप जैसे गुनी लेखक को ब्लॉग पर पढ़ना बहुत सुखद अनुभव है मेरी भी कुछ मानसिक उथल पुथल मेरे ब्लॉग पर एकत्रित है आपकी नज़र और मार्गदर्शन की अपेक्षा है
    प्रदीप मानोरिया

    ReplyDelete
  49. हाज़िरी लगाने में क्या जाता है,
    निट्ठल्ले ने हाज़िरी न लगाई, ये ना कहना

    ReplyDelete
  50. अरुणजी आप चाहे इसे कविता न समझें।
    हम भी इसे कविता न समझें यह मत कहना।

    आपका अमूल्य समय आपको मुबारक हो।
    हम अपना समय बरबाद न करें यह मत कहना।

    वाह विश्वनाथ जी, आप भी कविता करने लग गये
    अब तो कहना पड़ेगा
    खरबूजे को देख खरबूजा रंग बदलता है
    ज्ञान की संगत ने हमें कवि नहीं बनाया ये मत कहना

    ReplyDelete

आपको टिप्पणी करने के लिये अग्रिम धन्यवाद|

हिन्दी या अंग्रेजी में टिप्पणियों का स्वागत है|
--- सादर, ज्ञानदत्त पाण्डेय