Tuesday, March 10, 2009

मन्दी


मेरी पत्नी होली विषयक अनिवार्य खरीददारी करने कटरा गई थीं। आ कर बताया कि इस समय बाजार जाने में ठीक नहीं है। बेतहाशा भीड़ है। मैने यह पूछा कि क्या मन्दी का कुछ असर देखने को नहीं मिलता? उत्तर नकारात्मक था।

मेरा संस्थान (रेलवे) बाजार से इन्सुलर नहीं है और मन्दी के तनाव किसी न किसी प्रकार अनुभूत हो ही रहे हैं।
शायद इलाहाबाद औद्योगिक नहीं सरकारी नौकरों की तनख्वाह और निकट के ग्रामीणों के पैसे पर निर्भर शहर है और यहां मन्दी का खास असर न हो। पर बीबीसी हिन्दी की साइट पर नौकरियां जाने की पीड़ा को ले कर धारावाहिक कथायें पढ़ने को मिल रही हैं। मुझे अहसास है कि हालात बहुत अच्छे नहीं हैं। होली के रंग बहुत चटख नहीं होंगे। 
 Vishwanath in 2008
जी विश्वनाथ

श्री गोपालकृष्ण विश्वनाथ जी ने अपने बीपीओ/केपीओ वाले बिजनेस को समेटने/बेचने और उसी में तनख्वाह पर परामर्शदाता बनने की बात अपनी टिप्पणी में लिखी थी। वे रिलीव्ड महसूस कर रहे थे (उनके शब्द - “The feeling is more of relief than sadness or loss”)। पर उनकी टिप्पणी से यह भी लगता है कि व्यापक परिवर्तन हो रहे हैं और भारत भी अछूता नहीं है। भूमण्डलीकरण से अचानक हम इन्सुलर होने और कृषि आर्धारित अर्थव्यवस्था के गुण गाने लगे हैं। यह भी हकीकत है कि कृषि अपेक्षित विकास दर नहीं दे सकती। मन्दी के झटके तो झेलने ही पड़ेंगे।

सरकारी कर्मचारी होने के नाते मुझे नौकरी जाने की असुरक्षा नहीं है। उल्टे कई सालों बाद सरकारी नौकरी होना सुकूनदायक लग रहा है। पर मेरा संस्थान (रेलवे) बाजार से इन्सुलर नहीं है और मन्दी के तनाव किसी न किसी प्रकार अनुभूत हो ही रहे हैं।

यह मालुम नहीं कितनी लम्बी चलेगी या कितनी गहरी होगी यह मन्दी। पर हिन्दी ब्लॉगजगत में न तो इसकी खास चर्चा देखने में आती है और (सिवाय सेन्सेक्स की चाल की बात के) न ही प्रभाव दिखाई पड़ते हैं। शायद हम ब्लॉगर लोग संतुष्ट और अघाये लोग हैं।

इस दशा में बीबीसी हिन्दी का धारावाहिक मुझे बहुत अपनी ओर खींचता है। 

Bharatlal

भरतलाल से मैने पूछा – कहीं मन्दी देखी? वह अचकचाया खड़ा रहा। बारबार पूछने पर बोला – का पूछत हयें? मन्दी कि मण्डी? हमके नाहीं मालुम! (क्या पूछ रहे हैं? मन्दी कि मण्डी? हमें नहीं मालुम!) 
यह इंस्टेण्ट रियेक्शन है सरकारी आदमी का! 
@@@
भरतलाल ने घोर गरीबी और उपेक्षा देख रखी है। उसकी लिखें तो बड़ा उपन्यास बन जाये। पर मन्दी? यह क्या बला है?!



Papadमेरी अम्मा होली की तैयारी में आलू के पापड़ बनाने में लगी हैं। गुझिया/मठरी निर्माण अनुष्ठान भी आजकल में होगा – मां-पत्नी के ज्वाइण्ट वेंचर से।

आपको होली मुबारक।

पिछली पोस्ट - एक गृहणी की कलम से देखें।


40 comments:

  1. आपको, आपके परिवार को, वरिष्ठजनों को, होली पर्व की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  2. होली के पकवान जोइंट वेंचर के माध्यम से . साधू साधू .

    ReplyDelete
  3. मंदी कहां है मंदी.. मैं भी यही सोचता हूँ...

    जॉइन्ट वेंचर की मीठाई सहित "होली की ढेरो शुभकामनाऐं.."

    ReplyDelete
  4. आपको होली की बहुत शुभकामनाये.इस पर्व के जोश पर मन्दी का कभी असर न हो.

    ReplyDelete
  5. भारत में नहीं है मंदी ... होली की ढेरो शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  6. हालांकि मंदी की मार से हम जैसे बचे हुए हैं, लेकिन अपने काम्प्लेक्स में ही देखा है लोगों को नज़रें झुका कर घूमते .... इतनी दूर भी नहीं है ये हम से ......

    बहरहाल ...... होली मुबारक़ हो .... आप को और आप के परिवार को !!

    ReplyDelete
  7. न मंदी न मण्डी -सब कुछ ऐसयीच ही हैं इंडियन मा !

    ReplyDelete
  8. अख़बारों में जो खबरें आ रही हैं उनके अतिरिक्त हमें तो कहीं कुछ नहीं दिख रहा. कीमतें भर बढती जा रहीं हैं. होली की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  9. ज्ञानजी,

    इस मंदी और मेरे व्यवसाय पर असर के बारे में लिखना आरंभ किया था
    पर व्यस्तता के कारण रुक गया। इस विषय पर अवश्य लिखना चाहता हूँ। थोड़ा और समय चाहता हूँ।
    आप सब को होली की शुभकामाएं

    ReplyDelete
  10. मेरी अम्मा होली की तैयारी में आलू के पापड़ बनाने में लगी हैं। गुझिया/मठरी निर्माण अनुष्ठान भी आजकल में होगा – मां-पत्नी के ज्वाइण्ट वेंचर से।

    आपको और आपके परिवार को होली की रंग-बिरंगी ओर बहुत बधाई।
    regards

    ReplyDelete
  11. होली की हार्दिक शुभकामनायें और बधाई, मंदी की मार सरकारी कर्मचारिओं पर कम पड़ी है.

    ReplyDelete
  12. ब्लॉग में मंदी नही आ पाने के कारण कई है.. पर उस पर यदि बात कि जाए तो घमासान हो सकता है.. इसलिए उन्हे उनके हाल पर छोड़ देते है.. और आपको बधाई देते है होली क़ी..

    ReplyDelete
  13. आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  14. आपको व परिवार को होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  15. शायद हम ब्लॉगर लोग संतुष्ट और अघाये लोग हैं।
    bahut wazan hai is baat mein..shayad yahi wajah hai is vishay par jyada likha hua dekha nahin.

    Amma ji ko papad banatey dekh kar laga ,main bhi pahunch jaun..paapad khane..khud se to aaj kal ghar mein papad etc.banana kahan hota hai..

    Holi ki dher sari shubhkamnayen ghar mein sabhi ko dijeeyega.

    ReplyDelete
  16. होली की शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  17. आप सही कहते हैं। लेकिन मंदी का असर है। हम वकीलों पर इस का असर है। शेयर बाजार में लुटिया डूब जाने, मंदी के बहाने फीस नहीं आ रही है। कैम्पस सेलेक्शन की आस में लड़के लड़कियाँ चक्कर लगा रहे हैं, वहीं कैम्पस सलेक्शन करवाने वाले ऐजेण्ट उन के पीछे हैं। प्रोपर्टी मार्केट में खरीददार खूब चक्कर लगा रहे हैं लेकिन खरीद नहीं रहे हैं। सब जगह मंदी है। बस चल रहा है तो खाने पीने और मौज मस्ती का व्यापार। होली तो वैसे ही मनेगी जैसे मनती आई है। होली का चंदा इस बार कोई मांगने नहीं आया। हाँ होली सहयोग ले गए हैं बच्चे और होली बना रहे हैं। महल्ले में कहीं विजया घुट रही है। सब कुछ वही है। मंदी भी है और होली भी। होली पर आप को, रीता भाभी और सब परिवार जनों को बधाई।

    ReplyDelete
  18. मंदी के चक्कर में कई बेचारों की नौकरियां गईं। प्राइवेट सेक्टर ने बहती गंगा में हाथ धोए हैं। अलबत्ता बाजार में जितनी महंगाई होती है उतनी ही है। अलबत्ता कोई अनदेखी मुसीबत पीछे से झांक रही हो तो भगवान बचाए..
    होली पर आप सबको मुबारकबाद..
    जै जै

    ReplyDelete
  19. आपको सपरिवार रंगोत्सव की हार्दिक शुभकामना....
    प्राइवेट नौकरी पेशाओं के लिए तो निश्चित रूप से होली मंदी पड़ गई है....पर कोई बात नहीं,होली तो कीचड पानी से भी उतनी ही मस्ती से खेली जा सकती...खुश होने के लिए बाज़ार के रंग की जरूरत नहीं पड़ती....मन ख़ुशी के रंग से भिंगोकर होली मनाई जा सकती है.

    ReplyDelete
  20. होली की रंगकामनायें स्‍वीकार करें।


    शुक्र है भरतलाल ने यह नहीं पूछा कि

    मंडी

    शबाना नसीर वाली फिल्‍म।


    उसने सब्‍जी वाली मंडी ही पूछी।

    होली पर तो देहमंडी भी पूछी जा सकती है।
    वैसे मंदी का असर देह पर ही पड़ता है।

    ReplyDelete
  21. आपको एवम आपके सपरिवार को हे प्रभु के पुरे परिवार, कि तरफ से भारतीय सस्कृति मे रचा- बसा, "होली" पर्व पर घणी ने घणी शुभकामनाऐ :)(: )(::

    ReplyDelete
  22. आप ने बहुत सही मुददा उठाया है, मंदी के बारे में बात होनी चाहिए, अब तो विश्व बैंक ने कहना शुरु कर दिया है कि ग्रेट डिप्रेशन के बाद का ये सबसे खराब दौर है, यानि के एक और डिप्रेशन सर पर है। हम सरकारी नौकरी वाले कुछ हद्द तक बचे हुए हैं लेकिन डरे हुए हैं। बहुत जल्द इसके बारे में लिखेगें।

    आलू के पापड़? क्या अब भी बनते हैं? प्लीईईईईईइज हमें रेसिपी दिला दिजीए न, बहुत साल हो गये खाये। और क्या क्या याद दिलायेगा ये ब्लोगजगत मुझे?………:)

    ReplyDelete
  23. टिप्पणी लिखी थी पता नहीं कहा गयी, फ़िर से लिख रही हूँ ।
    आप ने बहुत अच्छा मुद्दा उठाया, इस बारे में बात होनी चाहिए, अब तो विश्व बैंक ने भी कह दिया है कि ग्रेट डिप्रेशन के बाद ये मंदी का सबसे खतरनाक दौर है, और ग्रेट डिप्रेशन एक बार फ़िर से हमारे द्वार खड़ा है।
    हां हम सरकारी नौकर कुछ हद तक बचे हुए तो है पर डरे हुए भी हैं। दूसरों के घर के मनहूसी छायी हो तो अपने घर मस्ती कैसे छा सकती है।

    खैर , आप को सपरिवार होली की शुभकामनाएं।
    आलू के पापड़? अब भी बनते हैं? प्लीईईईईइज मुझे रेसीपी दिला देगें क्या? बहुत साल हो गये खाये हुए? ये ब्लोगजगत और क्या क्या याद दिलवायेगा हमें?…।:)

    ReplyDelete
  24. Aapke blogpe pehlee baar aayee hun..bohot achhaa laga padhke....Haan...kaisee vidambana hai....Jo aapne kathan kee....!
    Roman hindi me likh rahee hun, isliye, dono shabon ke hijje ekhee honge...!
    Aapko aur aapke sabhee blog ke doston ko tyohaar kee hardik shubhkaamnayen..!

    ReplyDelete
  25. हम दाल रोटी वाले ब्लागर हैं। खाये-पिये अघाये नहीं।
    लोगों से सरकारी नौकरी के रोने सुनते मुझे २० साल
    हो गये। लेकिन ऐसे लोग बीस भी नहीं मिले जो नौकरी छो़ड़कर गये हों कहीं।
    होली मुबारक। गुझिया बनवाने के किस्से लिखे जायें!

    ReplyDelete
  26. मन्‍दी का प्रभाव उतना व्‍यापक अनुभव नहीं होगा जितना अखबारों में देखने/पढने को मिलता है। हमारे बैंकों ने, अमरीकी बैंकों की तरह 'सब प्राइम लोन' नहीं दिए, सो हमारा बेडा गर्क नहीं हुआ। मध्‍यम वर्ग की 'बचत की मानसिकता' ने इस दौर में जो ताकत पूरे देश को दी है उसकी कल्‍पना भी कोई नहीं कर पा रहा है।
    निस्‍सन्‍देह, मन्‍दी का प्रभाव है तो अवश्‍य किन्‍तु उतना नहीं, जितना चर्चाओं में, अखबारों में है। यह हमारे परम्‍परावादी (और कुछ सीमा तक रूढीवादी) होने का प्रतिफल भी है।
    ब्‍लागर अघाए हुए लोग हैं या नहीं किन्‍तु मन्‍दी से प्रत्‍यक्षत: प्रभावित तो नहीं ही हैं।

    ReplyDelete
  27. होली की मुबारकबाद,पिछले कई दिनों से हम एक श्रंखला चला रहे हैं "रंग बरसे आप झूमे " आज उसके समापन अवसर पर हम आपको होली मनाने अपने ब्लॉग पर आमंत्रित करते हैं .अपनी अपनी डगर । उम्मीद है आप आकर रंगों का एहसास करेंगे और अपने विचारों से हमें अवगत कराएंगे .sarparast.blogspot.com

    ReplyDelete
  28. होली की सपरिवार शुभकामनाएँ माताजी को प्रणाम - मँदी तो यहाँ पर भी है पर, त्योहार और जीवन ऋतुओँ के साथ आते जाते रहते हैँ

    ReplyDelete
  29. आपको और आपके परिवार को होली की रंग-बिरंगी ओर बहुत बधाई।
    बुरा न मानो होली है। होली है जी होली है

    ReplyDelete
  30. मंदी की चर्चा ब्लॉगजगत में न देखकर मुझे भी थोडी हैरानी हुई मगर मुझे लगा शायद अपने गायब रहने की वजह से मुझे पता नहीं चला होगा मगर मुझे नहीं लगता कि जिन लोगों को मंदी की चपेट लगी है या जो इससे बहुत प्रभावित हुए हैं, ऐसे लोगों की उपस्थिति हिंदी ब्लॉगजगत में ज्यादा है. जो हैं, मेरी तरह, उनकी सिट्टी-पिट्टी मेरी ही तरह गम है और ब्लॉगजगत से गायब रहेने का सबब भी यही मंदी है. हो सकता है मेरा मत गलत हो.

    ReplyDelete
  31. मंदी का असर आम आदमी तक पहुंचने मे वक्त लगेगा अभी तो जिन्होने मेजे मारे हैं तेजी के उन पर ही देखाई दे रहा है. अभी देखते जाईये.

    आपको परिवार सहित होली की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  32. सरकारी होने के बड़े फायदे हैं......उनमे से एक आपने गिना दिया! होली की शुभ कामनाएं!

    ReplyDelete
  33. भाई ज्ञान जी,

    मंदी के बारे में लेख ब्लॉग जगत में नहीं आते, ऐसा नहीं है, मेरे ब्लॉग के निम्न लेख पर गौर फरमायें......

    "Monday, 13 October, 2008
    करें तो क्या करे ?????????????
    करें तो क्या करें??????????????
    मित्रो,
    अक्सर हमें हिदायतों भरे ऐसे लेख पात्र- पत्रिकाओं में पढने को मिल जातें हैं, जो देखने-सुनने में तो काफी लुभावने, और मार्गदर्शक से लागतें हैं, पर यदि अमल में लेते हैं तो " लौट के बुद्धू घर को आए" सरीखा हाल होता है।
    ऐसा ही एक लेख हमें इकोनोमिक्स टाइम्स में मिला जो हु-ब-हु प्रस्तुत है.......


    नौकरी कर रहे हैं, तो जानिए अपने अधिकारों
    3 Oct, 2008, 1510 hrs IST, इकनॉमिक टाइम्स
    टेक्स्ट:
    वॉल स्ट्रीट के डरावने सपने ने कई भारतीयों को पहली बार आर्थिक अनिश्चितताओं के रूबरू लाकर खड़ा कर दिया है। खास तौर से उन लोगों को जिन्होंने अपने करियर के दौरान मंदी का दौर नहीं देखा था। ................."

    इस पर आपने टिप्पणी भी दी थी. खैर बात ५ माह पुरानी सो ............

    होली पर आपको सपरिवार हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  34. भाई ज्ञान जी,

    मंदी के बारे में लेख ब्लॉग जगत में नहीं आते, ऐसा नहीं है, मेरे ब्लॉग के निम्न लेख पर गौर फरमायें......

    "Monday, 13 October, 2008
    करें तो क्या करे ?????????????
    करें तो क्या करें??????????????
    मित्रो,
    अक्सर हमें हिदायतों भरे ऐसे लेख पात्र- पत्रिकाओं में पढने को मिल जातें हैं, जो देखने-सुनने में तो काफी लुभावने, और मार्गदर्शक से लागतें हैं, पर यदि अमल में लेते हैं तो " लौट के बुद्धू घर को आए" सरीखा हाल होता है।
    ऐसा ही एक लेख हमें इकोनोमिक्स टाइम्स में मिला जो हु-ब-हु प्रस्तुत है.......


    नौकरी कर रहे हैं, तो जानिए अपने अधिकारों
    3 Oct, 2008, 1510 hrs IST, इकनॉमिक टाइम्स
    टेक्स्ट:
    वॉल स्ट्रीट के डरावने सपने ने कई भारतीयों को पहली बार आर्थिक अनिश्चितताओं के रूबरू लाकर खड़ा कर दिया है। खास तौर से उन लोगों को जिन्होंने अपने करियर के दौरान मंदी का दौर नहीं देखा था। ................."

    इस पर आपने टिप्पणी भी दी थी. खैर बात ५ माह पुरानी सो ............

    होली पर आपको सपरिवार हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  35. मन्‍दी का प्रभाव उतना व्‍यापक अनुभव नहीं होगा जितना अखबारों में देखने/पढने को मिलता है। हमारे बैंकों ने, अमरीकी बैंकों की तरह 'सब प्राइम लोन' नहीं दिए, सो हमारा बेडा गर्क नहीं हुआ। मध्‍यम वर्ग की 'बचत की मानसिकता' ने इस दौर में जो ताकत पूरे देश को दी है उसकी कल्‍पना भी कोई नहीं कर पा रहा है।
    निस्‍सन्‍देह, मन्‍दी का प्रभाव है तो अवश्‍य किन्‍तु उतना नहीं, जितना चर्चाओं में, अखबारों में है। यह हमारे परम्‍परावादी (और कुछ सीमा तक रूढीवादी) होने का प्रतिफल भी है।
    ब्‍लागर अघाए हुए लोग हैं या नहीं किन्‍तु मन्‍दी से प्रत्‍यक्षत: प्रभावित तो नहीं ही हैं।

    ReplyDelete
  36. आप ने बहुत सही मुददा उठाया है, मंदी के बारे में बात होनी चाहिए, अब तो विश्व बैंक ने कहना शुरु कर दिया है कि ग्रेट डिप्रेशन के बाद का ये सबसे खराब दौर है, यानि के एक और डिप्रेशन सर पर है। हम सरकारी नौकरी वाले कुछ हद्द तक बचे हुए हैं लेकिन डरे हुए हैं। बहुत जल्द इसके बारे में लिखेगें।

    आलू के पापड़? क्या अब भी बनते हैं? प्लीईईईईईइज हमें रेसिपी दिला दिजीए न, बहुत साल हो गये खाये। और क्या क्या याद दिलायेगा ये ब्लोगजगत मुझे?………:)

    ReplyDelete
  37. Aapke blogpe pehlee baar aayee hun..bohot achhaa laga padhke....Haan...kaisee vidambana hai....Jo aapne kathan kee....!
    Roman hindi me likh rahee hun, isliye, dono shabon ke hijje ekhee honge...!
    Aapko aur aapke sabhee blog ke doston ko tyohaar kee hardik shubhkaamnayen..!

    ReplyDelete
  38. आपको सपरिवार रंगोत्सव की हार्दिक शुभकामना....
    प्राइवेट नौकरी पेशाओं के लिए तो निश्चित रूप से होली मंदी पड़ गई है....पर कोई बात नहीं,होली तो कीचड पानी से भी उतनी ही मस्ती से खेली जा सकती...खुश होने के लिए बाज़ार के रंग की जरूरत नहीं पड़ती....मन ख़ुशी के रंग से भिंगोकर होली मनाई जा सकती है.

    ReplyDelete
  39. टिप्पणी लिखी थी पता नहीं कहा गयी, फ़िर से लिख रही हूँ ।
    आप ने बहुत अच्छा मुद्दा उठाया, इस बारे में बात होनी चाहिए, अब तो विश्व बैंक ने भी कह दिया है कि ग्रेट डिप्रेशन के बाद ये मंदी का सबसे खतरनाक दौर है, और ग्रेट डिप्रेशन एक बार फ़िर से हमारे द्वार खड़ा है।
    हां हम सरकारी नौकर कुछ हद तक बचे हुए तो है पर डरे हुए भी हैं। दूसरों के घर के मनहूसी छायी हो तो अपने घर मस्ती कैसे छा सकती है।

    खैर , आप को सपरिवार होली की शुभकामनाएं।
    आलू के पापड़? अब भी बनते हैं? प्लीईईईईइज मुझे रेसीपी दिला देगें क्या? बहुत साल हो गये खाये हुए? ये ब्लोगजगत और क्या क्या याद दिलवायेगा हमें?…।:)

    ReplyDelete

आपको टिप्पणी करने के लिये अग्रिम धन्यवाद|

हिन्दी या अंग्रेजी में टिप्पणियों का स्वागत है|
--- सादर, ज्ञानदत्त पाण्डेय