Thursday, June 4, 2009

ब्लॉग से दूर!


मैं इण्टर-नेट से लगभग चार दिन दूर रहूंगा।

कभी कभी अन्य जिम्मेदारियां आपको बाकी काम का महत्व ज्यादा होने का अहसास देती हैं। और आप व्यस्तता होने पर पूरी इमानदारी से सरेण्डर कर देते हैं समय को। बीच-बीच में साक्षी भाव लाते हुये। यही सही अप्रोच है न? 

खैर यह गोलू पांड़े को सरेण्डर की मुद्रा में देखें। अगले रविवार के बाद मिलते हैं।

Surrender1 


26 comments:

  1. आप कार्यवशात्‌ ब्लागावकाश पर रहेंगे यह तो समझ आया किन्तु गोलू की यह पण्ड़मोनियम भंगिमा? यद्यपि श्वान स्नेह का प्रदर्शन कभी-कभी इस भांति करते हैं किन्तु पता नहीं क्यों यह मुद्रा जुगुप्सा उत्पन्न करती है। यात्रा,अवकाश, चिंतन मनोनुकूल हो और कुछ नया व्यंजित होगा इस आशा में प्रतीक्षा तो करनी ही होगी।

    ReplyDelete
  2. हम तो प्रतीक्षा कर रहे थे कि आज आलेख क्यों नहीं।
    आप न बताते तो रविवार तक इन्तजार करते, चिन्ता भी होती कि कहाँ फंस गए हैं।

    ReplyDelete
  3. आराम से आईये तरोताजा होकर. कोई जल्दी नहीं है. शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  4. chaliye chaar din tak aapkee prateekshaa karenge...magar ye golu pandey kyun lotamlot ho rahe hain...kya inhein bhee koi mantraalay chaahiye tha jo nahin mila...

    ReplyDelete
  5. बस बस!! रविवार तक ही हम भी वापस लौट आवेंगे आपके साथ ब्लॉग पर. व्यस्त रहें - मस्त रहें.

    ReplyDelete
  6. आज कल वैवाहिक कार्यक्रमों के चलते हम लोग भी कम ही समय दे पा रहें हैं .

    ReplyDelete
  7. क्या गोलू पांडे जी सोने की मुद्रा में रांक डांस कर रहे है .

    ReplyDelete
  8. ब्लॉगरी ऐसी लत है कि बाकी कामों से ज्यादा महत्त्वपूर्ण लगने लगती है. तभी इससे दूर होते हुए एक अपराधबोध का अहसास होता है. पिछले चार साल से इसी लिए तो इससे चिपके हुए है. :) आप मजे से काम निपटा कर आएं. फिर मटके का पानी पी कर और तरबूज से तरोताजा हो कर पोस्ट ठेलिये.... :) प्रतिक्षा है.

    ReplyDelete
  9. अवकाश क प्लान मै भी बना रहा हूं पर अभी तक़ सफ़ल नही हो पाया हूं।बरसात मे घूमने का इरादा है इस साल्।

    ReplyDelete
  10. व्यस्तता की ये सूचना आपकी ब्लॉगिंग के प्रति गम्भीरता को रेखांकित कर दर्शा रही है. कस्टमर केयर का बराबर ध्यान रखते हैं आप.

    ReplyDelete
  11. ऐसा लगता है जुदाई का गम आपको है पर गोलू मियां खुश नजर आ रहे है.....

    ReplyDelete
  12. गोलू पांडे सरेंडर की मुद्रा मे नही हैं बल्कि मस्ती की मुद्रा मे है.:)

    आप भी छुट्टी मना आईये, आपकी यात्रा शुभ हो. और जिस जरुरी कार्य के लिये आपने ब्लागिंग से चार दिन की छुट्टी ली है उस कार्य मे आपको सफ़लता प्राप्त हो. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  13. गोलू पांडे हमारे चापलूसी करने वाले नेताओं के आदर्श हैं...जय हो.
    नीरज

    ReplyDelete
  14. इस गोलू पांडॆज की मुद्रा बहुत पसंद आई, आप का अवकाश बहुत शुभ हो

    ReplyDelete
  15. kaafi samay baad blog jagat main sakriya hue to aap ne surrender kar liya...

    ...chaliye intzaar karne ke alawa koi chaara bhi nahi hai...

    :(

    ReplyDelete
  16. Shubhkamnayen...kary niptakar jaldi aaiye..

    ReplyDelete
  17. शुभ्कामन्याएं !

    ReplyDelete
  18. आपका कार्य सफल हो ! कभी-कभी हर तरह के काम से अवकाश लेना चाहिए फिर ये तो ब्लॉग्गिंग है :)

    ReplyDelete
  19. ज्ञान जी
    सभी ब्लागर्स ने आपकी चार दिनी छुट्टी की अर्जी स्वीकार कर ली है सभी ने गोलू पांडे की समर्पण मुद्रा एवं समर्पण भाव की तहे दिल से सराहना की है

    ReplyDelete
  20. गोलू की याद अभी भी आती है ना, ज्ञानदत्त जी?

    जिन्हें ज्ञात नहीं वे ज्ञानदत जी की यह पोस्ट देखें

    ReplyDelete
  21. प्रतीक्षा रहेगी आपके ब्लॉगावकाश से लौटने की! :)

    ReplyDelete
  22. ये पाण्डेय का गोलू है सुकुडा ही रहेगा...कुछ हड्डी-वड्डी मिल जाय तो चर्बी चढे़:)

    ReplyDelete
  23. हम भी अभी कमोबेश ऐसी ही स्थिति में है..

    ReplyDelete
  24. jee milte hain phir somvaar ko aur Golu jee ko namaskaar boliyega aur boliyega ki ab wo bade ho gaye hain, aisi mudrayen unhe shobha nahin deti.. kidding :P

    ReplyDelete
  25. प्रतिक्षा रहेगी।

    ReplyDelete

आपको टिप्पणी करने के लिये अग्रिम धन्यवाद|

हिन्दी या अंग्रेजी में टिप्पणियों का स्वागत है|
--- सादर, ज्ञानदत्त पाण्डेय