Monday, June 8, 2009

प्रतिस्पर्धा


मैं मुठ्ठीगंज में दाल के आढ़तिये की गद्दी पर गया था -  अरहर की पचास किलो दाल लाने के लिये। दाल कोई और ला सकता था, पर मात्र जिज्ञासा के चलते मैं लाने गया।

प्रतिस्पर्धा कर्मठ व्यक्ति को आगे बढ़ाती है। तकनीकी विकास यह फैक्टर ला रहा है बिजनेस और समाज में। यह प्रतिस्पर्धा उत्तरोत्तर स्वस्थ (नैतिक नियमों के अन्तर्गत) होती जाये, तो विकास तय है।
सामने दुकान के कमरे में दो तख्ते बिछे थे। उनपर गद्दे और सफेद चादरें थीं। दो मुनीम जी वाली डेस्कें रखी थीं गद्दों पर। आढ़तिया जी बैठे थे और तीन चार लोग और थे। किसी को कोई अफरातफरी नहीं। अलसाया सा भाव।

मैने देखा कि कोई लैपटॉप या कम्प्यूटर नहीं था। किसी प्रकार से यह नहीं लगता था कि ये सज्जन कमॉडिटी एक्स्चेंज से ऑन-लाइन जुड़े हैं। एन.सी.डी.ई.एक्स या एम.सी.एक्स का नाम भी न सुना था उन्होंने। कोई लैण्ड-लाइन फोन भी न दिखा। तब मैने पूछा – आप बिजनेस कैसे करते हैं? कोई फोन-वोन नहीं दिख रहा है।telephone

बड़े खुश मिजाज सज्जन थे वे। अपनी जेब से उन्होंने एक सस्ते मॉडल का मोबाइल फोन निकाला। उसका डिस्प्ले भी कलर नहीं लग रहा था। निश्चय ही वे उसका प्रयोग मात्र फोन के लिये करते रहे होंगे। कोई एसएमएस या इण्टरनेट नहीं। बोलने लगे कि इससे सहूलियत है। हमेशा काम चलता रहता है। पिछली बार रांची गये थे रिश्तेदारी में, तब भी इस मोबाइल के जरीये कारोबार चलता रहा।

मैने बात आगे बढ़ाई – अच्छा, जब हर स्थान और समय पर कारोबार की कनेक्टिविटी है तो बिजनेस भी बढ़ा होगा?

उन सज्जन ने कुछ समय लिया उत्तर देने में। बोले – इससे कम्पीटीशन बहुत बढ़ गया है। पहले पोस्टकार्ड आने पर बिजनेस होता था। हफ्ता-दस दिन लगते थे। लैण्डलाइन फोन चले तो काम नहीं करते थे। हम लोग टेलीग्राम पर काम करते थे। अब तो हर समय की कनेक्टिविटी हो गयी है। ग्राहक आर्डर में मोबाइल फोन की सहूलियत के चलते कई बार बदलाव करता है सौदे के अंतिम क्रियान्वयन के पहले।

कम्पीटीशन – प्रतिस्पर्धा! बहुत सही बताया उन सज्जन ने। प्रतिस्पर्धा कर्मठ व्यक्ति को आगे बढ़ाती है। तकनीकी विकास यह फैक्टर ला रहा है बिजनेस और समाज में। यह प्रतिस्पर्धा उत्तरोत्तर स्वस्थ (नैतिक नियमों के अन्तर्गत) होती जाये, तो विकास तय है।

वे तो दाल के आढ़तिये हैं। दाल के बिजनेस का केन्द्र नागपुर है। लिहाजा वहां के सम्पर्क में रहते हैं। उससे ज्यादा कमॉडिटी एक्सचेंज में सिर घुसाना शायद व्यर्थ का सूचना संग्रह होता हो। अपने काम भर की जानकारी थी उन्हें, और पर्याप्त थी – जैसा उनका आत्मविश्वास दर्शित कर रहा था। उनके पास पंद्रह मिनट व्यतीत कर उनके व्यवसाय के प्रति भी राग उत्पन्न हो गया। कितना बढ़िया काम है? आपका क्या ख्याल है?

आढ़त की गद्दी पर बैठ काम करते श्री जयशंकर “प्रसाद” बनने के चांसेज बनते हैं। पर क्या बतायें, “कामायनी” तो लिखी जा चुकी!      


39 comments:

  1. निश्चित ही प्रतियोगिता अच्छे परिणाम देती है विकास की ओर अग्रसर करती है, बशर्ते कि वह प्रतिद्वंदिता में न बदल जाए। अन्यथा सब से बुरे परिणाम भी वही देती है। वितरण में जिंस बदलना आसान है। जब जिसमें नुकसान हो उस से निकल लो और जिधर लाभ हो उस में घुस लो। लेकिन उत्पादन में काम कठिन है। एक बार पूंजी लग जाने के बाद आसानी से नहीं निकलती। पूँजी हमेशा लाभ के उत्पादन में लगती है। परिणामों की परवाह किए बिना तेजी से बहती है। इतनी तेजी से, कि सड़क पर फैलते भी देर नहीं करती।
    बहुत से काम हो चुके हैं, मसलन गुरुत्वाकर्षण के नियम न्यूटन खोज चुका है। पर भौतिकी समाप्त नहीं हो गई है। कामायनी के बाद भी काव्य समाप्त नहीं हो गया है।

    ReplyDelete
  2. कम से कम बाजार में दाल का भाव तो बता देते ज्ञान जी !

    ReplyDelete
  3. बाकी तो सब ठीक है .........मोबईल्वा घरै मा भूल गए का ?
    एक ठो फोटो भी ठेलते तो .........

    ReplyDelete
  4. बैठक की बात आगे बढ़ाईये..कामायनी तो आगे बढ़ ही जायेगी..पार्ट २ बाकी है. ज्ञान जी आढ़त वाले के लिए छोड़े जा रहे हैं ऐसा कह कर निकले थे जयशंकर प्रसाद जी हमसे.

    ReplyDelete
  5. काम तो अच्छा ही है शायद मेरे जैसे के बस का नही।

    ReplyDelete
  6. प्रतिस्पर्धा तो ठीक है पर ये लोग इसके नाम पर जो लूट रहें हैं उसका क्या .इन लोंगों की सारी गणित केवल किसानों पर और फुटकर खरीदनें वालों पर ही चलती है ऐसे में नेट की दुनिया से भला ये क्यों जुड़ने वाले .एकाध फोटो भी देते तो और मज़ा आता .

    ReplyDelete
  7. मोबाइल व इण्टरनेट से दुनिया सिकुड़कर आपकी हथेली में आ गयी है (अगर आप पुराने ८ इंच वाले मोबाइल प्रयोग नहीं करते हैं) । अपने समय का सदुपयोग करने में ’पैरलल प्रोसेसिंग’ के कारण एक क्रान्ति आ गयी है । मेरे एक मित्र को कार्यालय जाने में ४५ मिनट लगते हैं, पहले वह उस समय का उपयोग संगीत सुनने में करता था, अब मोबाइल में बातकर अपने कार्य निपटाने में करता है ।
    इस तरह के ४५ मिनट की ’बेबसी’ के कई दौर हर दिन आते हैं । आप एक ऐसी बैठक में हैं जिसमें आपका कोई काम नहीं है तो आप क्या करेंगे ? आप यात्रा में हैं और सामने बैठा व्यक्ति आप से भी बड़ा ’स्नॉब’ है तो आप क्या करेंगे ? आप एक कवि हृदय हैं और उपवन में बैठे बैठे माँ सरस्वती आपको आशीर्वाद देने आ पहुँची तो क्या आप कापी व पेन लेने दौड़ पड़ेंगे ? सभी अपने जीवनचर्या में झाँककर देखें तो एक लम्बी सूची तैयार हो जायेगी । यदि आदरणीय श्री ज्ञानदत्त पाण्डेय जी को ट्रेनों की सम्पूर्ण जानकारी टहलते टहलते ही मिल जाये तो सम्भवतः पाठकों को उनके द्वारा दुगने ब्लाग मिलने लगेंगे ।
    दुनिया का सिकुड़ने का सारे व्यवसायियों और व्यवसायों ने अधिकतम उपयोग किया है और जिन्होने नहीं किया है वो मंदी के ग्रास बन गये । आदतें अभी और बदलेंगी, परिवर्तन का स्वागत करें ।

    ReplyDelete
  8. बडा सही चित्रण किया है आपने. दाल का केंद्र नागपुर के साथ साथ इंदौर भी है. और आजकल इन आढतिया लोगों की नई पीढी पुरी तरह आधुनिक तकनीकों का इस्तेमाल कर रही है और अधिकतर कमोडिटी एक्सचेंजेस पर काम करते हैं और साल मे एकाध बार औंधे भी हो जाते हैं.

    आपके आढतिया जी संतोषी आदमी आदमी लगते हैं?:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. अरहर या तुअर या राहर की दाल का उत्पादन मीडिया के फ़ेवरेट विदर्भ मे बहुत होता है।यंहा का किसान फ़सल निकलते ही उसे बाज़ार भाव मे बेच देता है,उस समय दाम हमेशा नीचे होते है।बाद मे वही दाल बढी हुई किमतो पर हमे बाज़ार मे मिलती है।स्टाकिस्ट का मुनाफ़ा जोडकर। आप यकिन नही करेंगे वंहा दाल उगती है मगर दाल मिले नही है और वंहा से ज्यादा रायपुर मे है जो वंहा से दाल लाकर यंहा मिलिंग करते हैं।वैसे काम भारी मुनाफ़े वाला है मगर कभी-कभी अण्डा मुर्गी मे नही बदलता। हमने भी एक नही कई बार सोचा है मगर आज-तक़ श्रीगणेश नही हुआ।

    ReplyDelete
  10. मैं वेपारी समाज से ही आता हूँ अतः इनके क्रियाकलापों और सफलताओं की कूँजी के बारे में जानकारी रखता हूँ. किसी की समृद्धि से ईर्ष्या रखने वाले समाजवादी शायद नहीं जानते कि जहाँ लोग 8 घंटे से ज्यादा काम करने से सिर हिला देते है, वेपारी 16-16 घंटे काम करते है. तकनीक से परहेज नहीं करते और उसका सटिक उपयोग करते है. लगता है इस पर पोस्ट लिखनी पड़ेगी. :)

    ReplyDelete
  11. वैसे ऐसी दुकानों पर जाकर राहत मिलती है। एकैदम राहत का भाव, बंदा एक झटके में 2009 से 1959 में पहुंच जाता है। शांति, सुकून कैसा भला सा माहौल। पर दिक्कत यह है कि नास्टेलिया में जा सकते हैं,उसमें जी नहीं सकते। आढ़तियाजी काम भर का बदल लिये हैं, और जरुरत होगी, तो आगे बदल जायेंगे।

    ReplyDelete
  12. रोचक पोस्ट लिखी है।लेकिन इस मोबाईल पर लेन देन के चक्कर पर आदमी आलसी हो गया है। और जैसा माल घर पर पहुँचे इस्तमाल कर लेता है।.....

    ReplyDelete
  13. अरविन्द जी की तरह हम भी यही सोच रहे थे की दाल का भाव क्यों नहीं बताया. आजकल हमारे यहाँ दाल चावल के ही चर्चे हैं. अरहर दाल एक हप्ते पहले ५८ रुपये किलो थी जो अब ६० हो गयी है. चावल साधारण पिछले वर्ष १६/१९ थी और आज २८/३० हो गयी है. कोई भी सब्जी ८ रुपये पाँव से नीचे नहीं है. इस तरह मूल्य वृद्धि में प्रतिस्पर्धा बन पड़ी है.

    ReplyDelete
  14. हम ने तो इन्हे बहुत नजदीक से देखा है, आप ने बहुत सुंदर ढंग से इन के बारे लिखा.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  15. आढ़त की गद्दी पर बैठ काम करते श्री जयशंकर “प्रसाद” बनने के चांसेज बनते हैं। पर क्या बतायें, “कामायनी” तो लिखी जा चुकी!
    अफ़सोस!

    ReplyDelete
  16. आपने मात्र १५ मिनट के संजोये याद को बहुत रोचक तरीके से ब्यापार........ उससे जुड़े प्रतिस्पर्धा.... और अपने आपको जोड़ा हैं. बहुत सुन्दर चित्रण हैं.

    ReplyDelete
  17. (कई पोस्ट्स में) हर व्यवसाय से लेकर सिरमा कंपनी खोलने तक के विचार आपकी बिजनेस क्षमता दर्शाते हैं.अफसरी के चक्कर में कितने बिजनेस आईडिया बर्बाद हो गए :(
    'कितना बढ़िया काम है?' ये तो पता नहीं लेकिन हाँ काम से ज्यादा जो व्यक्ति काम अपनाए उसका अच्छा होना जरूरी है. और आप कोई भी व्यवसाय चालु करें तो उसमें कोई शक की गुंजाइश ही नहीं लगती !

    ReplyDelete
  18. आढतियों के बारे में पहली बार इतने करीब से जानने को मिला, हालाँकि ये बात अलग है कि मैं स्वयं मण्डी परिषद में हूं।
    वैसे कामायनी पार्ट-२ भी तो हो सकती है।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    ReplyDelete
  19. प्रतिस्पर्धा कर्मठ व्यक्ति को आगे बढ़ाती है। -100% sach kaha!

    -arhar daaal ki the costliest of all pulses.

    India ki market ka seedha asar ham par bhi padta hai..
    Dalen to aati hi india se hain...

    UAE mein co-operative shop mein Arhar dal--8dhs /kg hai.

    jahan yahi dusre stores mein--
    10 -10.5 dhs--[yah condition tab hai jab sabhi consumer products especially 'pulses 'par yahan Ministry ke strict instructions aur checking hai.

    ReplyDelete
  20. हम भी सूरत में थे तो एक बार साडी मार्केट में गये .....उस दिन लगा हर व्यक्ति का दाना पानी तय है... ओर कम्पीटीशन से काहे घबराना .

    ReplyDelete
  21. कमॉडिटी एक्सचेंज तो सट्टा बाज़ार है माल नहीं है सौदे हो रहे कृतिम कमी दिखाकर कीमत बड़ाई जाती है . सट्टे वाज़ मज़े मार रहे है और बेचारा किसान मर रहा है . उसे तो लागत भी नहीं मिल पाती .

    ReplyDelete
  22. आढ़त की गद्दी पर बैठ काम करते श्री जयशंकर “प्रसाद” बनने के चांसेज बनते हैं। पर क्या बतायें, “कामायनी” तो लिखी जा चुकी!

    mere liye to yahi pankti poori post hai..ye pankti aakhir mein bhi sonchne par majboor karti hai waise hi jaise ekta kapoor ke serials ke episode khatm hote hain :) just joking ji..

    ReplyDelete
  23. बहुत पहले, दिल्ली की फतेहपुरी मस्जिद के सामने की कोरोनेशन बिल्डिंग में, आढ़तियों को काम करते देखा था तो सर घूम गया था. आपका आढ़तिया तो बिलकुल उसका उलट निकला.

    ReplyDelete
  24. क्या बतायें, “कामायनी” तो लिखी जा चुकी!

    यह भी खूब रही :)

    ReplyDelete
  25. हम , भाततीयोँ के लिये, अरहर की दाल और कान्मायनी दोनोँ ही जीवन मेँ रस लाने के लिये उपयुक्त हैँ - लावण्या

    ReplyDelete
  26. आप हमारे दर तक आ कर लौट गए और हम अपनी दूकान ही ताकते रह गए :(
    दाल मंदी मेरे घर से २०० मीटर दूर है अगर पुनः पधारें तो नुक्कड़ के चाय वाले को स्पेशल चाय का पहले से आडर कर रखेंगे -
    वीनस केसरी 9235407119

    ReplyDelete
  27. तो आढ़्ती बननें के गुण आपनें सीख ही लिए हैं। भाव-ताव का भी अन्दाजा हो ही गया है। व्यापार भी आपको फायदेमंद लग रहा है। तो धन्धा शुरु करनें में देर क्यों कर रहे हैं? पहला ग्राहक बननें के लिए मै तैयार हूँ। अरविन्द जी को बताये रेट पर १०० कि० भिजवा दीजिए। डिलिवरी पर नकद भुगतान का वादा। होम ड़िलिवरी चार्जेस अतिरिक्त अदा किये जाँएगे। कोई अड़्चन हो तो ०९४५०३४०२९३ पर सम्पर्क कर सकते हैं।

    ReplyDelete
  28. सही कहा उन्होंने। बढ़िया काम करते हैं और मस्त जीते हैं। अगर कमोडिटी एक्सचेंजों के चक्कर में पड़ते तो पैसा कमाते या गंवाते, अलग मामला है- सुख चैन जरूर खो बैठते सेठ जी।

    ReplyDelete
  29. बात तो आपकी सही है, तकनीक काम आसान करती है, आसान होने से अधिक लोग काम में आते हैं, बेहतर काम करते हैं और इससे प्रतिस्पर्धा बढ़े ही बढ़े है! आपके आढ़तियेजी को भी कोई अधिक ज्ञान देगा और उनको आवश्यकता महसूस होगी तो वे और अधिक तकनीक का सहारा लेंगे! :)

    ReplyDelete
  30. मुझे तो दाल में काला दिख रहा है। लालू जी गए, ममता जी आईं और आपको दाल का धंधा भला लगने लगा! :)
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  31. काका इस मंहगाई के जमाने में तो नमक रोटी ही चल पायेगी । दाल रोटी इस 60 रू0 किलो के भाव में तो भगवान ही मालिक है । और आपको आई.टी. की रेड पड़वानी है जो खुलेआम सारा ब्यौरा छाप डाला । ऐसे खुलेआम आढ़त की दुकान पर मत जाया करिये ।

    ReplyDelete
  32. काका इस मंहगाई के जमाने में तो नमक रोटी ही चल पायेगी । दाल रोटी इस 60 रू0 किलो के भाव में तो भगवान ही मालिक है । और आपको आई.टी. की रेड पड़वानी है जो खुलेआम सारा ब्यौरा छाप डाला । ऐसे खुलेआम आढ़त की दुकान पर मत जाया करिये ।

    ReplyDelete
  33. सही कहा उन्होंने। बढ़िया काम करते हैं और मस्त जीते हैं। अगर कमोडिटी एक्सचेंजों के चक्कर में पड़ते तो पैसा कमाते या गंवाते, अलग मामला है- सुख चैन जरूर खो बैठते सेठ जी।

    ReplyDelete
  34. वैसे ऐसी दुकानों पर जाकर राहत मिलती है। एकैदम राहत का भाव, बंदा एक झटके में 2009 से 1959 में पहुंच जाता है। शांति, सुकून कैसा भला सा माहौल। पर दिक्कत यह है कि नास्टेलिया में जा सकते हैं,उसमें जी नहीं सकते। आढ़तियाजी काम भर का बदल लिये हैं, और जरुरत होगी, तो आगे बदल जायेंगे।

    ReplyDelete
  35. बडा सही चित्रण किया है आपने. दाल का केंद्र नागपुर के साथ साथ इंदौर भी है. और आजकल इन आढतिया लोगों की नई पीढी पुरी तरह आधुनिक तकनीकों का इस्तेमाल कर रही है और अधिकतर कमोडिटी एक्सचेंजेस पर काम करते हैं और साल मे एकाध बार औंधे भी हो जाते हैं.

    आपके आढतिया जी संतोषी आदमी आदमी लगते हैं?:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  36. आप हमारे दर तक आ कर लौट गए और हम अपनी दूकान ही ताकते रह गए :(
    दाल मंदी मेरे घर से २०० मीटर दूर है अगर पुनः पधारें तो नुक्कड़ के चाय वाले को स्पेशल चाय का पहले से आडर कर रखेंगे -
    वीनस केसरी 9235407119

    ReplyDelete
  37. आढतियों के बारे में पहली बार इतने करीब से जानने को मिला, हालाँकि ये बात अलग है कि मैं स्वयं मण्डी परिषद में हूं।
    वैसे कामायनी पार्ट-२ भी तो हो सकती है।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    ReplyDelete

आपको टिप्पणी करने के लिये अग्रिम धन्यवाद|

हिन्दी या अंग्रेजी में टिप्पणियों का स्वागत है|
--- सादर, ज्ञानदत्त पाण्डेय