Sunday, July 26, 2009

नागपंचमी


Naagpanchami1 आजके दिन कुछ ज्यादा चहल-पहल है गंगा तट पर। नागपंचमी है। स्नानार्थियों की संख्या बढ़ गयी है। एक को मैने कहते सुना – इहां रोजिन्ना आते थे। आजकल सिस्टिम गडअबड़ाइ गवा है (रोज आते थे गंगा तट पर, आजकल सिस्टम कुछ गड़बड़ा गया है)।

भला, नागपंचमी ने सिस्टम ठीक कर दिया। कल ये आयेंगे? कह नहीं सकते।

घाट का पण्डा अपनी टुटही तखत पर कुछ छोटे आइने, कंधियां, संकल्प करने की सामग्री आदि ले कर रोज बैठता था। आज ऊपर छतरी भी तान लिये है – शायद ज्यादा देर तक चले जजिमानी!

गंगा किनारे का कोटेश्वर महादेव का मंदिर भी दर्शनार्थियों से भरा है। पहले फूल-माला एक औरत ले कर बैठती थी बेचने। आज कई लोग दुकानें जमा लिये हैं जमीन पर।

एक घोड़ा भी गंगा के कछार में हिनहिनाता घूम रहा था। जब बकरे के रूप में दक्ष तर सकते हैं तो यह तो विकासवाद की हाइरार्की में आगे है – जरूर तरेगा!

दो-तीन मरगिल्ले सांप ले कर भी बैठे हैं – नागपंचमी नाम सार्थक करते। बहुत जोर से गुहार लगाई कि दान कर दूं – मैने दान करने की बजाय उसका फोटो भर लिया। ताकि सनद रहे कि देखा था!


37 comments:

  1. नागपंचमी मुबारक!

    ReplyDelete
  2. अभी अभी गाँव से फोन आया कि आज क्या भोजन बन रहा है ?

    पूछने पर कि आज क्या खास बात है जो कुछ बने ?

    बताया गया आज पंचईया है, नागपंचमी।

    सुनते ही थोडा हैरान हुआ, कि मुझे इस त्यौहार के बारे में पता कैसे नहीं चला?

    फिलहाल मंदिर हो आने की तैयारी चल रही है। थोडा देर पहले ये पोस्ट पढता तो जल्दी पता चलता औऱ अब तक तो शायद मंदिर हो आया होता।


    शहरी जीवन की ये भी एक भूल-भूलैया है जो गाँव से फोन पर याद दिलाने पर याद आती है। सचमुच, परंपरा और त्यौहारों का असली सत तो गाँवों में ही बचा रह गया है।

    ReplyDelete
  3. थोड़ा दान तो कर ही देना था. :) पुण्य पा जाते.

    नागपंचमी की शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  4. ऐसा नहीं है कि दान न किया होगा, बता नहीं रहे ।

    नागपंचमी की शुभकामनायें । आभार ।

    ReplyDelete
  5. आज के दिन मै जिसको चिढाना होता था उसे जन्म दिवस की बधाई तो देता था साथ ही औ लोगो से भी बधाईयां दिलवाता था।स्कूल मे एक कविता पढी थी चंदन चाचा के बाडे मे दंगल हो रहा अखाडे मे।नागपंहमी पर दंगल अब रस्म अदायगी भर बस रह गई है।बहुत कुछ बदला गया है।नही बदला है तो आज के दिन सिर्फ़ कढाई मे भोजन बनाने का सिस्टम्।रोटियां तवे पर नही बनाई जाती। चावल दाल तो पकने का सवाल ही नही।कल से आई(माताजी)ने फ़रमान जारी कर दिया है कि कल तवा नही चढेगा।क्यों ये सवाल आज तक़ नही पूछा?

    ReplyDelete
  6. मुझे लगता है अब यह चैनल टीवी पर आयेगा कुछ दिन में :)

    ReplyDelete
  7. इस पूजा का कृषि से सम्बन्ध है सम्भवत:, गाय के गोबर से घर के आगे नाग देवता बना कर पूरे घर का घेरन किया जाता है।
    भोजन में तो आज दाल भरी पूरी और खीर बन रही होगी।
    प्रयाग में दंगल नहीं होते क्या आज के दिन?

    इस अवसर पर ब्लॉग पर ब्लॉगरों का दंगल करा दें तो कैसा रहे? प्रारूप वगैरह बाकी प्रयागी बन्धुओं से कंसल्ट कर फाइनल कर सकते हैं। मैं दिल्ली में किसी ऑफिशियल काम से रविवार को भी जूझ रहा हूँ। आप के ब्लॉग पर दंगल का लाभ यह होगा कि अधिक से अधिक लोग भाग ले सकेंगे।

    ReplyDelete
  8. जंगल महकमे ने सपेरों पर पाबन्दी लगा राखी है. लोग धरे जा रहे हैं. फिर भी दो महिलाएं हमारे कालोनी के अन्दर गुहार लगा रही हैं. झोले में नागराज रखे. आपके चित्र देखकर विडियो का भ्रम हुआ था. नागों का आप पर अनुग्रह बना रहे.

    ReplyDelete
  9. नाग पंचमी मुबारक हो पर नागों को आजाद कर दो पिटारे से !!

    ReplyDelete
  10. निःशुल्क नागराज का दर्शन तो आज आप को मिल ही गया.

    ReplyDelete
  11. सांपों की शामत...एक्सट्रा.

    ReplyDelete
  12. धन्यवाद आपको नागपंचमी की याद दिलाने के लिये हम तो अपने शहर से बाहर इस कांक्रीट के जंगल में आकर वार त्यौहार सब भूल गये और न ही यहां पता चलता है।

    महाकाल में नागपंचमी के दिन केवल एक दिन पहली मंजिल पर नागचंद्रेश्वर का मंदिर खुलता है, हमने आखिरी बार दो साल पहले उस मंदिर के दर्शन किये थे।

    ReplyDelete
  13. अच्छा किया. कहते है.. सांपों को दुध नहीं पिलाते..

    ReplyDelete
  14. आज तो सांप पूजा की ही धूम है ,आप तो नित्य गंगा स्नान वाले हैं फिर भी दान-पुण्य से बचते हैं.

    ReplyDelete
  15. ज्ञान जी बचपन में बाल-भारती में नाग-पंचमी पर एक कविता पढ़ाई जाती थी मध्‍यप्रदेश में । जाने कब से नॉस्‍टेलजियाए हुए हैं । कविता कहीं मिलती नहीं । बहुत परेशान हो गए । नागपंचमी के बहाने उस कविता का याद आना और फिर ना मिलना परेशान कर रहा है । क्‍या करें बताएं ।

    ReplyDelete
  16. पुण्य पाने के लिए हम टिपण्णी दान करते है...

    ReplyDelete
  17. चलिए हमें भी पता चल गया कि आपने देखा था

    ReplyDelete
  18. चित्र अच्छे खेंच लाए हैं। हम ने भी देखी नागपंचमी पर गंगातट की रौनक।

    ReplyDelete
  19. नागपंचमी की शुभकामनाऐं.

    समय के साथ सब बदल जाता है...परन्तु यदि से भई न रहे तो क्या होगा ?

    ReplyDelete
  20. तीज-त्यौहार मनाने की सारी ज़िम्मेदारी तो घर कि महिलाओं पर होती है। आप का ब्लाग देख रहा था कि पत्नी ने आकर आरती की थाल सामने रख दी। बस...आरती ली और पुजा हो गई:) बेचारी महिलाएँ- चौका, चुल्हा, पूजा,देवता, भक्ति, पति....

    ReplyDelete
  21. बढ़िया जानकारी दी है आपने... ...... वन्य जीव सरक्षण के चलते मदारियों की हालत बहुत खराब हो गई है . सरकारी डंडे से बचते हुए छिपते छिपाते पेट पालने के लिए बेचारे फिर भी लोगो को नागराज के दर्शन करा रहे है .आज मुझे भी दर्शन करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ .

    ReplyDelete
  22. आज hi आप की पोस्ट पर आई और आप ने नागराज के दर्शन करा दिए..मुझे तो साँपों से बहुत डर लगता है.नाग पंचमी की शुभकामनयें.

    ReplyDelete
  23. नागों की जय हो।
    जमाये रहिये जी।

    ReplyDelete
  24. कल मेरे फार्म पर एक नागिन को डर कर नौकर ने मार दिया उसका नाग वहां चक्कर लगा रहा है . आज नाग पंचमी के दिन उसे जीवनदान दिया गया है कल की पता नहीं .

    ReplyDelete
  25. गिरिजेश राव दंगलम देहि देहि की रट लगाए हुए हैं -उनकी तमन्ना पूरी करने का कुछ यत्न करिए -नागपंचमी की शुभ कामनाएं !

    ReplyDelete
  26. देखते ही देखते कितने परिवर्तन आ गये हैं त्योहारों में. कभी अल-सुबह से ही "नाग पूज लो" की आवाजें गली में गूजना शुरु हो जाती थीं. और आज सुबह से निपट सन्नाटा रहा. माताजी परेशान कि कैसे काम बने. आखिरकार पूजा घर में शंकर जी की तस्वीर में नाग देवता से काम चलाया गया. हां, पकवानों में वही पुराना रंग जरूर रहा.
    -------------------

    यूनुस जी जिस कविता के लिये परेशान हैं, हमारा अंदाजा है कि ये वही है जिसका जिक्र अनिल पुसदकर जी ने किया है. हमने भी पढ़ी थी बचपन में बाल-भारती में (कोर्स में थी कक्षा चौथी या पांचवी में). खूब जोर-जोर से गाया करते थे. मगर अब याद नहीं है.

    चंदन चाचा के बाड़े में,
    लड़्ते थे मल्ल अखाड़े में,
    ये पहलवान अम्बाले का
    वो पहलवान पटियाले का,

    फ़िर कई दांव-पेचों का नाम सहित जिक्र था. नॉस्टेल्जिया ने घेर लिया.
    ------------------------

    बचपन की कविताओं की याद आई तो "कदंब का पेड़" भी याद आई. क्क्षा तीन में थी. किस्मत से नेट पर मिल भी गई. एक बार फ़िर से आनंद लिया. ये रहा लिंक:
    http://www.anubhuti-hindi.org/sankalan/phool_kadamb/sk_chauhan.htm

    ReplyDelete
  27. एक कविता अस्पष्ट सी याद आ रही है-
    सांप तुम मनुष्य तो हुए नहीं
    शहर में बसना भी तुम्हे नहीं आया
    फिर कहाँ सीखा डसना
    विष कहाँ पाया
    ये बेचारा जीव शहर में आकर सारी हेकडी भूल बैठा है.उसकी प्रतिस्पर्धा यहाँ बड़े बड़े नागराजों से है.

    ReplyDelete
  28. आलसी महराज तो अब यू-टर्निया रहे हैं। लंठई ने इनका बन्टाधार कर दिया तभी तो दंगल के फेर में पड़े हैं।
    आपकी पोस्ट है बहुत मजेदार।

    ReplyDelete
  29. भला, नागपंचमी ने सिस्टम ठीक कर दिया। कल ये आयेंगे? कह नहीं सकते।

    उन्होंने यह थोड़े ही कहा कि कल आएँगे। उन्होंने तो यह कहा कि पहले रोज़ाना आते थे लेकिन अब सिस्टम गड़बड़ा गया है, नागपंचमी है इसलिए आ गए नहीं तो आज भी न आते! :)

    बाकी तस्वीरें बढ़िया लिए हैं, कैमरे का भरपूर प्रयोग हो रिया है ब्लॉग के लिए! :)

    ReplyDelete
  30. गंगातट का अच्छा वर्णन मिलता है आपके ब्लॉग पर !!

    ReplyDelete
  31. नागपंचमी के बहाने बेचारे नागों की शामत आ जाती है. दुढ पीये या ना पीयें..उनको लेकर घूमने वाले तो चंद दिनों की रोटी का जुगाड कर ही लेते होंगे?

    बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  32. आदरणीय ज्ञानदत्त जी,

    इहाँ इन्दौर में गुड़ियन के मारे ना मिलत है, फिरौं गेहूँ, चना का घुघरी खाय के मनाय लिहिन नागपंचमी। दंगलन के फेर में पड़ेय की उमर ना रही अब । नाग बाबा के दर्शन जरूर किये हौं ।

    बहुत सुन्दर वर्णन किया है गंगा तट का।

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    ReplyDelete
  33. मेनका गांधी जी नजर पड़े तो इन सांपो का भी भला हो जाए ....

    ReplyDelete
  34. "एक घोड़ा भी गंगा के कछार में हिनहिनाता घूम रहा था। जब बकरे के रूप में दक्ष तर सकते हैं तो यह तो विकासवाद की हाइरार्की में आगे है – जरूर तरेगा!" -बहुत तीखा और सटीक बार किया है आपने.

    मैं भी "भुतनाथ मंदिर गया था" और इसी तरह के कुछ दृश्य मेरे सामने भी थे. मैंने नागों की दुर्दशा और विशेष पुण्य के लालच में दान भी कर दिया है. आपका पोस्ट बहुत अच्छा था.

    ReplyDelete
  35. नाग पंचमी मुबारक हो ।
    आप मेरे ब्लोग पर आये और नजरे इनायत की ये मेरा सौभाग्य है, मै अभी बहुत छोटा हु ब्लोग पर आप से गुजारिश है नजरे इनातय किये रहे ।
    धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  36. नागपंचमी की शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  37. ग्रहण पर पण्डे तक ही रह गयी बात? लगता है आपने ग्रहण देखा नहीं !

    ReplyDelete

आपको टिप्पणी करने के लिये अग्रिम धन्यवाद|

हिन्दी या अंग्रेजी में टिप्पणियों का स्वागत है|
--- सादर, ज्ञानदत्त पाण्डेय