Wednesday, March 24, 2010

ईर्ष्या करो, विनाश पाओ!

महाभारत के तीन कारण बताये जाते हैं।

शान्तनु का काम, दुर्योधन की ईर्ष्या और द्रौपदी का क्रोध।

शान्तनु का काम भीष्म-प्रतिज्ञा का कारण बना। दुर्योधन की ईर्ष्या पाण्डवों को 5 गाँव भी न दे सकी। द्रौपदी का क्रोध विनाश पत्र के ऊपर अन्तिम हस्ताक्षर था।


यह प्रवीण पाण्डेय की बुधवासरीय अतिथि पोस्ट है।
The Difficulty of Being Good
"गुरुचरण दास की Difficulty of Being Good पढ़ रहा हूँ। ईर्ष्या का प्रसंग रुचिकर और सार्वजनिक लगा। श्रीमती जी के मायके गमन के बाद बच्चों की देख रेख के लिये आज की छुट्टी लिये घर बैठा हूँ। बच्चों को उलझाकर ब्लॉग पोस्ट लिखने का अपराध कर चुका हूँ। ब्लॉगहित में क्षम्य हो।"

इनमें से केवल दुर्योधन की ईर्ष्या ही थी जो लम्बे समय तक इस विनाश बीज को पल्लवित किये रही, शेष दोनों कारण तो तात्कालिक थे।

ज्ञानीजन अनुभवजन्य यह तथ्य बताते हैं कि ईर्ष्या हर मानव में विद्यमान है। हम सबमें अपने अपने हिस्से का थोड़ा सा दुर्योधन है और तज्जनित महाभारत। दाँय पहले कपाल में मचती है, काल तो उसका मूर्त और धीमा एक्शन रिप्ले ही दिखाता है।

मत्सर(ईर्ष्या) हिन्दू शास्त्रों में वर्णित 6 दोषों में एक है, बाइबिल में बताये 7 पापों में स्थान रखता है, इस्लाम में हसद के नाम से है। जैन और बौद्ध ग्रन्थों में इस पर विस्तार से चर्चा की गयी है। कहीं इसे आग के समान, तो कहीं दीमक के समान और कहीं इसे न ठीक होने वाली बीमारी बताया है।

हमारे हाथ में इसका उपचार है, समग्र नाश नहीं। तीन स्तरों पर समस्या और निराकरण है। जो ईर्ष्या करता है, जिसके प्रति ईर्ष्या की जाती है, वह समाज जो 1 और 1 को 11 नहीं बना पाता है।

ग्रीक समाज में जब कोई इतना ऊपर उठ जाता था कि लोग उससे ईर्ष्या करने लगें तो उसे प्रशीतलन(Cooling off) के लिये कुछ वर्षों के लिये निर्वासित कर दिया जाता था। सुकरात को तो जीवन से ही निर्वासित होना पड़ा। भारतीय संस्कृति में यह प्रशीतलन क्रमिक है और पहले वानप्रस्थ और फिर सन्यास के रूप में जाना जाता है। अकबर के द्वारा बैरम खाँ को संभवतः इसी कारण हज पर भेजा गया हो। भारतीय राजनीति में ऐसे चेहरों की सूची बनाने से कई घाव पुनः खुल जायेंगे। अतः दिल पर मत लीजिये, यह परम्परा का अंग है, प्रशीतलन के बाद पुनः कार्य पर लग जाइये।

जो व्यक्ति बहुत ऊपर उठे, उसे भी चाहिये कि अधिक दिखावा न करे। न धन का, न ज्ञान का, न सम्मान का, न अभिमान का। चीन की संस्कृति में बड़ी ऊँचाइयाँ छूने के बाद भी लोग 'मैं तो बड़ा तुच्छ सा प्राणी हूँ और आप के ऐश्वर्य के आगे यह उपलब्धि तो कुछ भी नहीं' जैसे वाक्य बोलते हुये दिख जाते हैं। भारत में दान को बहुत महत्वपूर्ण माना गया है। कम से कम जिन्हें दान मिलेगा, वे ईर्ष्या न कर के साधुवाद देंगे। आपका धन कम होने से आपके प्रति ईर्ष्या की मात्रा भी कम हो जायेगी। और इसी बहाने आपकी भी मोह माया कम हो जाये तो क्या हानि है। कई लोग स्वयं तोप चलाने के बाद भी क्रेडिट अपनी टीम को ही दान कर देते हैं या पुष्पगुच्छ में लपेट कर बॉस के चरणों में अर्पित कर देते हैं।

भारतीय संस्कृति में यह प्रशीतलन क्रमिक है और पहले वानप्रस्थ और फिर सन्यास के रूप में जाना जाता है। अकबर के द्वारा बैरम खाँ को संभवतः इसी कारण हज पर भेजा गया हो। भारतीय राजनीति में ऐसे चेहरों की सूची बनाने से कई घाव पुनः खुल जायेंगे। अतः दिल पर मत लीजिये, यह परम्परा का अंग है, प्रशीतलन के बाद पुनः कार्य पर लग जाइये।

ज्ञानदत्त पाण्डेय उवाच - इसी परम्परा के वशीभूत बेचारे नये ब्लॉगर कुछ पोस्टें लिख कर खुद को अकबर और स्थापितों को बैरामखाँ बनाने पर प्रतिबद्ध हो जूतमपैजार करने लगते हैं!


अगर लोभ पूंजीवाद का पाप है तो ईर्ष्या समाजवाद का दुर्गुण! - गुरचरनदास की संदर्भित पुस्तक से।

जो ईर्ष्या करते हैं उनकी तो बात ही निराली है। चर्चिल व चार्ल्स डि गॉल जैसे नेता महानायक ईर्ष्यालु समाज के कारण ही भयानक हार तक निपटा दिये गये। न रहेगा बाँस न बजेगी बाँसुरी । एण्टी इनकम्बेन्सी में भी इसी रणनीति की बू आती है। आशानुरूप कार्य नहीं किया तो क्रोध, आशा से बहुत अच्छा किया तो ईर्ष्या, आपका जाना तय है श्रीमन्। 'उसकी साड़ी मेरी साड़ी से सफेद कैसे' जैसे विज्ञापन आपके अन्दर ईर्ष्या के दबे हुये भाव को उभार कर पैसा कमा कर निकल जाते हैं।

एक सर्वे के अनुसार आस्ट्रेलिया में यह पाप(ईर्ष्या) अन्य देशों की अपेक्षा सर्वाधिक है। बेचारे भारतीय!

बर्टाण्ड रसेल के अनुसार यह भाव(ईर्ष्या) लोकतन्त्र का जनक है और सामाजिक समानता बनाये रखने के लिये बने रहना चाहिये। शौक से जलिये!

मैं इस दाह(डाह) से बचने के लिये दो सत्य जीवन में स्वीकार कर चुका हूँ। पहला संसाधनों की प्रचुरता (Abundance theory) और हर जीवन की विशिष्टता (Uniqueness of every being)। आपके सत्य क्या हैं?

Gurcharandas books


43 comments:

  1. @ज्ञानदत्त पाण्डेय उवाच - इसी परम्परा के वशीभूत बेचारे नये ब्लॉगर कुछ पोस्टें लिख कर खुद को अकबर और स्थापितों को बैरामखाँ बनाने पर प्रतिबद्ध हो जूतमपैजार करने लगते हैं!
    और ज्ञानजी कहते हैं nice

    ReplyDelete
  2. लग गये पुनः कार्य में.

    ReplyDelete
  3. अनुभवजन्य यह तथ्य बताते हैं कि ईर्ष्या हर मानव में विद्यमान है।'
    सही है
    महाभारती द्वन्द तो स्वयं के भीतर ही है

    ReplyDelete
  4. कहीं मंदिर में ही एक जगह लिखा देखा था -

    जलो....लेकिन दिये की तरह।

    सुंदर पोस्ट।

    ReplyDelete
  5. इसी परम्परा के वशीभूत बेचारे नये ब्लॉगर कुछ पोस्टें लिख कर खुद को अकबर और स्थापितों को बैरामखाँ बनाने पर प्रतिबद्ध हो जूतमपैजार करने लगते हैं!.
    ..................
    विलुप्त होती... नानी-दादी की बुझौअल, बुझौलिया, पहेलियाँ....बूझो तो जाने....
    .........
    http://laddoospeaks.blogspot.com/2010/03/blog-post_23.html
    लड्डू बोलता है ....इंजीनियर के दिल से....

    ReplyDelete
  6. ईर्ष्या इतनी नैचुरल है कि इस पर इस ढंग से कभी गौर ही नहीं किया जाता .....

    ये ग़लत या बुरी है ये तो समझ में आता है .... लेकिन इसे स्वाभाविक जान कर नज़रंदाज़ भी कर दिया जाता है ..... इस से निजात का उपाय भी कोई बताता ... काश !

    ReplyDelete
  7. ईर्ष्या स्वाभाविक है। अमिताभ जी ने ठीक कहा। बौद्धों में सतत जागृत रहने का अभ्यास कराया जाता है- साधक को निपुण बनाने के लिए कि वह द्रष्टा हो जाय। ऐसे भाव आएँ तो बस चले जाँय जैसे राह चलता कोई अपरिचित।
    बड़ों द्वारा विनम्र वाणी प्रदर्शन भी अहं तुष्टि के लिए किया जाता है। सामने वाला न समझे तो गया काम से :)
    @पुष्पगुच्छ में लपेट कर बॉस के चरणों में अर्पित कर देते हैं। - करवा दिया जाता है ;)
    @ अकबर के द्वारा बैरम खाँ को ...
    अरे नहीं, विशुद्ध राजनैतिक कारण थे। अकबर बहुत शातिर खिलाड़ी था।
    .. मुझे कभी किसी से ऐसी ईर्ष्या नहीं होती कि उसका अहित करूँ। आज तक कभी नहीं किया। मेरे जैसे साग पात टाइप इंसान भी हैं। अब इसे 'उस टाइप' का विनम्रता प्रदर्शन न समझ लीजिएगा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. @ बौद्धों में सतत जागृत रहने का अभ्यास कराया जाता है
      - कौन हैं ये लोग? किस गृह में रहते हैं?

      Delete
  8. ईर्ष्या पर वापिस से सोचना पड़ेगा..

    ReplyDelete
  9. "इसी परम्परा के वशीभूत बेचारे नये ब्लॉगर कुछ पोस्टें लिख कर खुद को अकबर और स्थापितों को बैरामखाँ बनाने पर प्रतिबद्ध हो जूतमपैजार करने लगते हैं!"
    लगता है निचोड़ यही है भाई जी !
    nice !

    ReplyDelete
  10. "इसी परम्परा के वशीभूत बेचारे नये ब्लॉगर कुछ पोस्टें लिख कर खुद को अकबर और स्थापितों को बैरामखाँ बनाने पर प्रतिबद्ध हो जूतमपैजार करने लगते हैं!"

    तो आप हज पर कब जा रहे है? :)

    ईश्वर करे की कभी नही.. आपसे एक सार्थक ब्लागिग की समझ मिलती रहती है और आत्मोन्न्ति के नये नये आयाम भी...

    दुबारा आता हू प्रवीण जी को अच्छे से पढने के लिये..

    ReplyDelete
  11. हम तो ईर्ष्या के भाव को समझदारी से बह जाने देते हैं...
    बढ़िया आलेख

    ReplyDelete
  12. '' ईर्ष्या तू न गयी मेरे मन से ..... ''
    बहुत अच्छा लिखा है , हंसमुख गद्य ! आभार !
    @ गिरिजेश राव जी
    राजनीति में ईर्ष्या कम है ? तामसिक ईर्ष्या है वहां !
    'इस टाइप ' में सात्विक ईर्ष्या कहाँ !

    ReplyDelete
  13. ढाई गज की पोस्ट पर ढाई लाईनों का उवाच ..जब ज्यादा भारी पडता देखा तो हम समझ गए कि सब कुछ ईर्ष्यावश किया जा रहा है । इसपर अलग से और भी नाईस , नाईसर ..नाईसेस्ट की हद तक लिखा जाए ..वर्ना हम जैसे नए ब्लोग्गर ........समझ रहे हैं न ....या करें घोषित ....
    अजय कुमार झा

    ReplyDelete
  14. ज्ञानवर्धक आलेख. रामनवमी की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  15. @ज्ञानदत्त पाण्डेय उवाच - इसी परम्परा के वशीभूत (बेचारे) नये ब्लॉगर कुछ पोस्टें लिख कर खुद को अकबर और स्थापितों को बैरामखाँ बनाने पर प्रतिबद्ध हो जूतमपैजार करने लगते हैं!
    ... वो ये नहीं जानते कि चारा तो स्थापितों के पास ही होता है... जूतमपैजार मत करो भाई ... ब्लॉग जगत में रहना है तो मठाधीशों के पीछे पीछे चलो ...
    (जलने की बू तो नहीं आई)

    ReplyDelete
  16. बढ़िया पोस्ट.

    हम तो प्रवीण जी से पुराने ब्लॉगर हैं फिर भी हमें उनसे ईर्ष्या है कि वे इतना बढ़िया कैसे लिख लेते हैं. हमें तो गिरिजेश जी से भी ईर्ष्या है कि वे बिना ईर्ष्या के कैसे रह लेते हैं. हम अजय कुमार झा जी से यह सोचकर ईर्ष्या कर लेते हैं कि वे सही जगह इतनी जल्दी कैसे पहुँच जाते हैं? अजित भाई से इस बात के लिए ईर्ष्या है कि वे ईर्ष्या के भाव को समझदारी से बह जाने देते हैं और मैं समझदारी के अभाव में ऐसा नहीं कर पाता. सच कहें तो हम ईर्ष्या से बहुत पीड़ित हैं.

    आज रामनवमी है उसके बावजूद.

    ReplyDelete
  17. और पदमसिंह जी से बाद में ईर्ष्या हुई कि उन्होंने अपनी प्रोफाइल में इतनी बढ़िया 'सोचनीय' फोटो लगाई है....:-)

    ReplyDelete
  18. ईर्ष्या विनाश का कारण है. चिता की तरह जलाती है.

    वह गुण कौन सा है जो अच्छा देख और अच्छा करने को प्रेरित करता है? ईर्ष्या का ही परिष्कृत रूप? शायद.

    ReplyDelete
  19. शास्त्रों में कहा गया है की चिंता और ईर्षा चिता का कारण बनती है फिर कैसी चिंता ....

    ReplyDelete
  20. प्रवीण जी ! आलेख प्रशंसनीय है..!

    ReplyDelete
  21. नए ब्लागेर्स से/को इर्ष्या स्वाभाविक है...

    पर मन को एक ही जगह धूनी नहीं रमा लेना चाहिए..कम से कम जब यही अंतिम लक्ष्य ना हो तो..
    भो ; वरिष्ठ ब्लागर..!

    आखिर ..

    दिल तो सबका बच्चा है..जी..

    सर्किट का भी और नसीरुद्दीन का भी...!

    ReplyDelete
  22. प्रश्न:- आपके सत्य क्या हैं?
    उत्तर:- मौक़े-मौक़े की बात है. किसी ने नहीं देखा तो ईर्ष्या कर ली, पकड़े गए तो हें-हें कर ली :-)

    ReplyDelete
  23. माया मरी न मन मरा, मर-मर गए शरीर ।
    आशा तृष्णा न मरी, कह गए दास कबीर ॥

    ReplyDelete
  24. एक मशहूर कहावत है कि ईर्ष्‍या कमानी पड़ती है और चापलूसी खरीदी जाती है। हमने भी बहुत ईर्ष्‍या कमायी और आपके बताए नुस्‍खे को अर्थात प्रशीतलन को अपना रहे हैं और ब्‍लोगिंग का आनन्‍द ले रहे हैं।

    ReplyDelete
  25. ईर्ष्या से जलने वालों को चैन कहाँ ....आराम कहाँ ....
    महाभारत के सर्वाधिक महत्वपूर्ण कारण को इंगित किया ....
    @ आपका धन कम होने से आपके प्रति ईर्ष्या की मात्रा भी कम हो जायेगी....
    धन से होने वाली ईर्ष्या का तो फिर भी इलाज बता दिया ...जो ईर्ष्या कला से हो तो ....??
    @ बड़ों द्वारा विनम्र वाणी प्रदर्शन भी अहं तुष्टि के लिए किया जाता है। सामने वाला न समझे तो गया काम से :) ....विचार करने योग्य है ...

    ReplyDelete
  26. देखो भाइयो ईर्ष्या से ईर्ष्या मत करो
    इसे अगर ठीक से इस्तेमाल करना सीख लें तो ये आपके धनात्मक उत्कर्ष में बहुत सहायक हो सकता है ... वैसे ही जैसे दारु का प्रयोग दोनों तरह से कर सकते हैं .... पी कर लुंड होने के लिए भी और दवाई के तौर पर भी ...
    ईर्ष्या आप में प्रगति के लिए मोटिवेशन भी हो सकती है और आप को जला भी सकती है
    इसे पालतू बनाएँ ... गुलाम न बनें
    बाकी नए ब्लोगर हैं ज्यादा कुछ नहीं जानते
    ज्ञान बूंक दिए खा म खा

    ReplyDelete
  27. शिव कुमार जी से ईर्ष्या है कि वे इतने अधिक लोगों से इतनी अधिक ईर्ष्या कैसे कर लेते हैं।
    बढ़िया पोस्ट है। आवश्यकता है कुछ अपरिग्रह के भाव की।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  28. Bahut bhadiya Aalekh....Dhanywaad!

    ReplyDelete
  29. Praveenji;
    Badiya post ke liye hardik badhai. ek chhoti si baat ki taraf aapaka dhyaan aakarshit karna chaahunga. Mahabharat ke kaarano par vichaar karte huye aap Shantanu ko kaamuk na banaaiye, ise aap dropadi ke krodh aur duryodhan ki irshya tak hi simit rakh sake to uchit hota. aur iske bhi aage dropadi ka krodh akaaran to nahi tha, to isiliye duryodhan hi akela kaaran bacha. Yadi duryodhan ke alaawa aur 2 kaaran jimmedaar the to voh the satyavati ki irshya, aur dronachaarya ka naitik patan. Shishya agar bhatak jaaye to guru rah dikhaata hai paratu guru ke bhatakane ke baad koi aasha nahi hoti.
    Prakti apni lilaye rachti hi rahti hai, shaantnu ka naam shaantanu isliye pada tha kyonki unke chhune bhar se tan(sharir) ki piDa shaant ho jaati thi. Shaantu ne jo kiya voh to maanav swabhav ke anargat kiya, unhone to nahi kaha tha Bhishm se yuvraaj pad rikt karne ke liye, stayavati ka rukha vayvhaar shaantnu ki akaal mrityu ka kaaran bana, karma ke phal ke anusaar satyaavati ko bhi apane putro ko khona pada, chitrangad ki mrityu gandhrvraaj se mallyudhdh me hui, par sawaal yeh hai ki devraaj indra ko bhi paraajit karne wale kans ne kabhi hastinaapur par chaDaai karne ka saahas nahi kiya to indra ke tuchchh sevak gandharvaraaj ne hastinaapur par aakrman karne ki jurrat kaise kar Dali? Vishv ke sarvashreshth yoddha bhishm ko kinaare karne aur pita se dur karne ka dand satyavati ne apane putra ki bali dekar paaya. vichitravirya ek aisa naam hai jisse aaj ke aadhunik tabke ke log bhi naak sadaayenge, aakhir koi apane putra ka naam "strange sperm" kaise rakh sakta hai, apne dushit aur kaamuk vayavhaar ki vajah se satyavaati ki dusari santaan bhi maut ke muh me sama gai.Bhishm abhibhavak to bane par apane vairaagya ki vajah se samay rahte vichitravirya ki santaano ko dandit ya sudhaar na sake.

    ReplyDelete
  30. अब यह पोस्ट पढ़ कर आज ke din इतना ही कहेंगे---जय श्री राम....

    ReplyDelete
  31. ईर्ष्या... किससे करें... कैसे करें.

    यह तो प्रेय की ओर ले जाने वाला मार्ग है.

    और मैं तो अक्सर इसी को गुनता रहता हूं:-

    "... at my back I always hear
    Time's winged chariot hurrying near;
    And yonder all before us lie
    Deserts of vast eternity."

    Poem excerpt (Andrew Marvell)

    ReplyDelete
  32. गुरुचरण दास की तो-तीन किताबों में उनकी खुद की बातों में (घोर) विरोधाभास दिख जाएगा. बाकी ईर्ष्या वाली बात तो सही है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. इत्ता टाइम किसके पास है यार? बड़े लोगों का अनुसरण करने से इतना फ़ायदा तो होता ही है कि अपनी झपकी तोड़े बिना भी रास्ता कट जाता है।

      Delete
  33. आज आप ने बहुत सुंदर बात लिखी, ओर यह सत्य भी है,कभी कभी ऎसी बाते पढने से हम भटकने से बच जाते है. आप का धन्यवाद

    ReplyDelete
  34. इर्ष्या करना मामूली बात नहीं है.. इसके लिए लगातार रियाज करना पड़ता है.. सुबह उठते ही दो घंटे इर्ष्या करना चाहिए, फिर शाम में दो घंटे का रियाज फिर.. ऐसे ही १५-२० साल रियाज करते रहे तभी परफेक्शन आता है..

    ReplyDelete
  35. पोस्ट और टिप्पणियां दोबारा पढने पर कुछ बातों को कहने से रोक नहीं सकता:-
    पोस्ट के कथानक को हिंदी ब्लौगिंग का सब-प्लॉट मिल गया. ज्ञान जी की टिपण्णी ने लोगों का ध्यान प्रवीण जी की पोस्ट से हटा दिया. यहाँ नए-पुराने और स्थापित-नवोदित का भाव इतनी गहरी जड़ पकडे बैठा है कि सयानों को भी कभी-न-कभी कालिख लग ही जाती है. और यह हालात तो तब हैं जब किसी को भी ब्लौगिंग से शुद्ध आय नहीं हो रही. मीडियोक्रिटी हिंदी मानस का अनिवार्य गुण है जिसके चलते 'पत्र सम्पादक के नाम' लिखने वाले भी मूर्धन्य रचनाकार होने का मुगालता पाले बैठे रहते हैं. ऐसे में जो भी जन सतत गुणी रचनाधर्म में लगे हुए है (और जिन्हें इसका पारितोषक भी मिलता है) उनकी मिट्टी पलीद करने के दसियों बहाने और तरीके ईजाद कर लिए जाते हैं. जिस दिन स्थापित और रचनाधर्मी ब्लौगर ब्लौगिंग से लायक कुछ कमाने होंगे उस दिन असली जूतमपैजार होगी. तब तक सब अपनी जुगाली करते रहें. ध्यान दें कि लपटें कहीं चारे को न लील बैठें.

    ReplyDelete
  36. पढकर तारीफ़ करने से पहले खूब ईर्ष्या हो रही है।

    ReplyDelete
  37. @मनोज कुमार said...
    अभी तक मैं प्रवीण जी का वेट कर रहा था कि उनका अधिकारिक टिप्प्णी आ जाए और यह देख लूँ कि किसकी ईर्ष्या बड़ी है ।(ईर्ष्या पर वे कहते हैं...)



    मैं,
    बैठकर आनन्द से,
    वाद के विवाद से,
    उमड़ते अनुनाद से,
    ज्ञान को सुलझा रहा हूँ,

    सीखता हूँ,
    सीखने की लालसा है,
    व्यस्तता है इसी की,
    और कारण भी यही,
    कुछ बोल नहीँ पा रहा हूँ ।

    ReplyDelete
  38. hmara to saty hai jab irshya ka bhav jagart ho (yh to svabhavik durgun hai) tab us bhav se vipreet disha me sochne lgte hai .jaise apki itni achhi post padhkar irshya ke bhav aaye to fat se tippniya pdhne baith gye .
    bhrhal bahut sundar aur mnn krne yogy post .
    abhar

    ReplyDelete
  39. mujhe kuchh bhi likhne se rok rahi he ye baat....

    इसी परम्परा के वशीभूत बेचारे नये ब्लॉगर कुछ पोस्टें लिख कर खुद को अकबर और स्थापितों को बैरामखाँ बनाने पर प्रतिबद्ध हो जूतमपैजार करने लगते हैं!

    ReplyDelete
  40. आपके लेखन की रोचक शैली से हमें ईर्ष्या हो रही है। हे प्रभु क्षमा करना!

    ReplyDelete
  41. अतिसार्थक चिंतन....

    बड़ा ही सुखद लगा पढना...
    आभार...

    ReplyDelete

आपको टिप्पणी करने के लिये अग्रिम धन्यवाद|

हिन्दी या अंग्रेजी में टिप्पणियों का स्वागत है|
--- सादर, ज्ञानदत्त पाण्डेय