Saturday, September 25, 2010

द्विखण्डित

Gyan900-001 कटरा, इलाहाबाद में कपड़े की दुकान का मालिक, जो स्त्रियों के कपड़े सिलवा भी देता है, अपनी व्यथा सुना रहा था – “तेईस तारीख से ही सारे कारीगर गायब हो गये हैं। किसी की मां बीमार हो गई है। किसी के गांव से खबर आई है कि वापस आ जा। तुझे मार डालेंगे, काट कर फैंक देंगे!”

“कौन हैं कारीगर? हिन्दू कि मुसलमान?”

“ज्यादातर मुसलमान हैं।”

पर मुसलमान क्यों दहशत में हैं? ये ही तो दंगा करते थे। यही मारकाट मचाते थे। यह सामान्य हिन्दू परसेप्शन है।

कोई कहता है - “बाबरी मामले के बाद इतने तुड़ाते गये हैं कि अब फुदकते नहीं। पहले तो उतान हो मूतते थे।”

Gyan879 उधर मेरी सास जी बारम्बार फोन कर कह रही थीं – ज्ञान से कह दो चौबीस को दफ्तर न जाये। छुट्टी ले ले।

पर अगर दंगा हुआ तो चौबीस को ही थोड़े न होगा। बाद में भी हो सकता है। कितने दिन छुट्टी ले कर रहा जा सकता है? मेरी पत्नी जी कहती हैं।

अब तू समझतू नाहीं! मन सब खराबइ सोचऽला। हमार परेसानी नाहीं समझतू।

मैं द्विखण्डित हूं। हिन्दू होने के नाते चाहता हूं, फैसला हो। किच किच बन्द हो। राम जी प्रतिस्थापित हों – डीसेण्टली। पर यह भय में कौन है? कौन काट कर फैंक डाला जायेगा? 

मुसलमान कि हिन्दू? आर्य कि अनार्य? मनई की राच्छस?

मन के किसी कोने अंतरे में डर मैं भी रहा हूं। जाने किससे!   


33 comments:

  1. जो सबसे ज्यादा डरे हुये हैं, मुझसे, आपसे भी ज्यादा कायर हैं, वही हमले करते हैं जी
    प्रमाण है उन्होंनें हथियार भी इकट्ठे कर लिये होंगें और समूह को तैयार कर रहे होंगें।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  2. अजी कुछ नहीं होगा, यह देश तो टालू मिक्‍सर पीने का आदि है।

    ReplyDelete
  3. मनुष्य़ काटेगा और मनुष्य ही कटेगा। मनुष्य के इस स्वभाव को स्वीकार लेने के बाद ही अवरुद्ध द्वार खुलते हैं।
    वैसे राम मन्दिर वहीं बनना चाहिए। सम्भवत: हम लोगों के जीवनकाल में न हो पाए।

    ReplyDelete
  4. निश्चिंत रहिए।
    हम तो optimist हैं। कुछ नहीं होगा। निर्णय सुनाया जाएगा।
    हारी हुई पार्टी मामले को सर्वोच्च न्यायालय तक ले जाएगी।
    वहाँ मामला बरसों तक फ़िर अटका रहेगा।

    इस बार सरकार चेत है। दंगे नहीं होंगे। Trouble makers से निपटने के लिए पूरी तैयारी कर रहे हैं।
    लोग भी ऊब चुके हैं। इतने साल के बाद मामला कुछ ठंण्डा पड गया है।
    इस से भी अधिक महत्वपूर्ण मामले हैं आजकल जिसपर जनता का ध्यान आकर्षित है।


    वैसे मुझे नहीं लगता इस का समाधान कोई भी न्यायाधीश दे सकेंगे।
    एक दिन इस पर संसद में फिर बहस होगी और उपयुक्त बिल पास होगा।
    तब तक यह आग जलती रहेगी।

    जी विश्वनाथ

    ReplyDelete
  5. अभी जल्दी नहीं है. कॉमन वेल्थ के बाद ध्यान भटकाने के लिए सहारा लिया जा सकता है.

    ReplyDelete
  6. 92 me jo janbhavna tha...o' abtak ate..ate...bahut kam ho gaya hai..

    nata to kuch bhi karne ko tayar hai..
    magar ab paublic sab janti hai...

    ootna darne ki bhi jaroorat nahi hai..(kitna...ye hame khud nahi pata)

    han...mandir to banni chahiye lekin
    sadbhavna se...jo ho nahi sakti...

    pranam.

    ReplyDelete
  7. bakt badal gaya hai....phir bhi neta
    log kahan mannewala hai...kuch na kuch to karega/karvayega...lekin ysa
    kuch nahi hoga jaisa pahle ho chuka hai....

    pranam

    ReplyDelete
  8. विश्वनाथ सर जैसी ही सोच मेरी भी है.. कुछ नहीं होने जाने वाला है.. अभी चिंता भी नहीं कर रहा हूँ.. मेरे ख्याल से उस दिन हम सब मिल कर चिंता-चिंता खेलेंगे जिस दिन सुप्रीम कोर्ट से फैसला आने वाला होगा.. अभी पन्द्रह-बीस साल निश्चिन्त ही रहना चाहिए...

    ReplyDelete
  9. विश्वनाथ जी की टिप्पणी से सहमत...

    ReplyDelete
  10. जो होना है हो जाये तारीखो से कुछ नही होगा .

    ReplyDelete
  11. मैंने तो सोचा कि तसलीमा नसरीन की पुस्तक द्विखंडितो की समीक्षा है ..
    निशाखातिर रहिये बला टल गयी है ..अब कुच्छौ नाही होने वाला ...

    ReplyDelete
  12. अतीत को भुलाना आसान नहीं है। सहेज कर रखे पुराने एलबम से एक फोटो गुम हो जाए तो टीस होती है। फिर, यहां तो श्रीराम की जन्‍मस्‍थली और बाबर की विरासत का मामला है। इसलिए ऐसा समाधान होना चाहिए कि दोनों समुदायों में से किसी के मन में फांस न रहे। अन्‍यथा श्रीराम और बाबर बार-बार उनकी स्‍मृति में लौटेंगे और उनकी धरोहर की गैर मौजूदगी सालती रहेगी।

    इसलिए बेहतर होगा कि जितना जल्‍द हो सके सरकार दोनों समुदायों को साथ लेकर अपने कोष से वहां मंदिर व मस्जिद दोनों बनवाए और राष्‍ट्रीय स्‍मारक के रूप में उसकी हिफाजत करे। और,यह काम न्‍यायालय नहीं कर सकता, सरकार को ही इच्‍छाशक्ति व संकल्‍प दिखाना होगा।

    ReplyDelete
  13. हमें तो लगता है कुछ नहीं होगा परन्तु मीडिया संयत नहीं दिखती.

    ReplyDelete
  14. मुझे लगता है निर्धारित तारीख 24 सितंबर को ही फैसला हो जाता तो राजनेताओं को इतनी सारी फिजूल की बयानबाजी करने का मौका न मिल पाता ।

    मामला या तो ठंडे ठंडे ही सुप्रीम कोर्ट में चला जाता या फिर यहीं पर सम।

    23 की सुबह तक सब ओर से राजनेताओं के बयान आ रहे थे कि कोर्ट जो फैसला करे हम मानेंगे... लेकिन ये जो दिन ग्रेस के तौर पर मिल गए हैं फैसले के लिए उसमें मीडिया ने अपने चिलगोजई दिखा दी और उसके चलते विवाद पर विवाद करते राजनेता हर चैनल पर कुकुरमुत्तों से उग आए हैं।

    कभी-कभी मौका समझते हुए अदालतों को हथौड़ा मार देना चाहिए।

    ReplyDelete
  15. अगर देश मै शांति चाहते है तो सभी नेताओ को, पंडित ओर मोलावियो को फ़ेसले से १० दिन पहले जेल मे नजर बंद कर दे ओर फ़ेसले के दस दिन बाद छोडे, फ़िर देखे इन २० दिनो मै लोग कोन सा दंगा करते है?जनता को कोई मतलब नही मंदिर मस्जिद से, ब्स यह भडकाने वाले मर जाये तो शांति ही शांति

    ReplyDelete
  16. आपका डर जान कर तनिक भी अच्‍छा नहीं लगा। आप तो कृष्‍ण भक्‍त हैं। इन पंक्तियों पर गौर करें -

    राखे कृष्‍णा, मारे सै?
    मारे कृष्‍णा, राखे सै?

    ReplyDelete
  17. पिताजी से भोपाल फोन पर बात हो रही थी. काफी खुलकर बता रहे थे - "यहाँ तो सब सामान भरके रखने लगे हैं. क्या पता कब क्या हो जाय. हर घर में कम से कम एक महीने का राशन और एक्स्ट्रा सिलेंडर होना चाहिए. तुम भी सामान भरके रखा करो. भलाई का जमाना नहीं है. ये कांग्रेस साली नहीं चाहती कि वहां मंदिर बने. लेकिन मस्जिद दोबारा बनवाने का बूता नहीं है इसमें. तुम देखना, ये साले ऐसा गोलमोल डिसीजन देंगे कि हिन्दू मुसलमान दोनों झांसे में आ जायेंगे. बोलेंगे कि अभी इसपर एक आयोग बिठा देते हैं और फलां डिपार्टमेंट से रिसर्च करवा देते हैं. पंद्रह बीस साल इसमें निकल जायेंगे. बीजेपी तो साले चोर हैं. आज देखा कैसे उमाभारती दोबारा-तिबारा थूक कर चाट रही है. तुम तो वहां आराम से रहो. साउथ दिल्ली में तो वैसे भी कोई हंगामा नहीं होता. अपनी नौकरी बजाओ. अब तो बच्चे भी बड़े हो रहे हैं, जिम्मेदारियां भी बढ़ रही हैं. गाडी ठीक चल रही है? अगले टायर बदलवा लेना. बैटरी तो परसाल ही लगाई थी. और कोई बात हो तो बताना..."

    ReplyDelete
  18. समीर जी ने सही कहा है।

    ReplyDelete
  19. हम भी समीर जी से सहमत, अभी कुछ न होगा उसके बाद टाल मटोल्…वैसे न मंदिर बने न मस्जिद तो अच्छा है। एक हॉस्पिटल बन जाए वहां , जहां राम भी हों और रहीम भी साथ में वाहे गुरु भी रख लें, बुद्ध और ईसा मसीह को भी साथ खींच लें , कोई और रह गया क्या?

    ReplyDelete
  20. जब बिना फैसला समाज चल रहा था, कपड़े सिले जा रहे थे, स्कूल खुले हुये थे तो किसको फैसला सुनने की जल्दी थी। किसके बुखार में देश तप रहा है। जिसे जल्दी थी उसे कोने में ले जाकर ढंग से सुना दिया जाये फैसला।

    ReplyDelete
  21. इधर आप द्विखण्डित और उधर वो द्विखण्डिता :)

    ReplyDelete
  22. विष्णु बैरागी जी की बात पसन्द आयी।
    वैसे उत्तर प्रदेश की सरकार और केन्द्र की सरकार में सिर्फ़ एक बात पर सहमति है कि कोई गडबड, दंगे नहीं होने चाहियें। सरकारी मशीनरी बडी क्रूर है एक बार सरकार ने सोच लिया कि गडबड न हो तो होना मुश्किल ही है।

    फ़िर दुनिया में और भी गम हैं आम आदमी के लिये, कल किसी आनलाईन अखबार में सब्जियों के दाम सुनकर आत्मा सिहर गयी। दिन याद आ गये जब हम शाहजहांपुर में (१९९३-१९९७) सब्जी मंडी से ताजा सब्जी लेने जाते थे। अधिक क्या कहें लेकिन समझ लें कि बहुत सी सब्जियां देश के मुकाबले ह्यूस्टन में सस्ती हैं। बडी विकट स्थिति है, कोई उम्मीद बर नहीं आती, कोई सूरत नजर नहीं आती।

    ReplyDelete
  23. मुसलमान कि हिन्दू? आर्य कि अनार्य? मनई की राच्छस?

    काटेंगे पिशाच और कटेंगे वही जो अब तक हर बार कटे हैं - गरीब मज़दूर

    विष्णु जी की पंक्तियां काबिले ग़ौर हैं:
    राखे कृष्‍णा, मारे सै?
    मारे कृष्‍णा, राखे सै?

    ReplyDelete
  24. तारीख पर तारीख ...
    लगता नहीं जल्दी ही कोई हल निकलेगा ...!

    ReplyDelete
  25. ब्‍लॉग akaltara.blogspot.com पर पोस्‍ट 'राम-रहीमःमुख्‍तसर चित्रकथा' की याद कर रहा हूं.

    ReplyDelete
  26. अनीता जी की टिप्पणी से शब्दशः सहमत..
    और मन आशंकित तो जरूर है...सबको सुबुद्धि आए..और कहीं से भी किसी अप्रिय घटना की खबर ना मिले.....बस यही कामना है.

    ReplyDelete
  27. श्री विश्वनाथ की इन पंक्तियों को दुहराना चाहूंगा-
    हारी हुई पार्टी मामले को सर्वोच्च न्यायालय तक ले जाएगी।
    वहाँ मामला बरसों तक फ़िर अटका रहेगा।
    इस बार सरकार चेत है। दंगे नहीं होंगे। Trouble makers से निपटने के लिए पूरी तैयारी कर रहे हैं।
    लोग भी ऊब चुके हैं।

    साथ ही यह भी जोड़ना चाहूंगा- राजनीतिक दल, असामाजिक तत्व और आपराधिक तत्व मौके का फ़ायदा उठाने से नहीं चूकेंगे, यदि उन्हें थोड़ा भी मौक़ा मिल जाए तो.

    ReplyDelete
  28. कल भाइयों में कोई झगडा हो जाए जमीन के टुकड़े को लेकर.

    और तीसरा आकर कहे ....... डिस्पेंसरी बनवा दीजिए यहाँ पर ........... क्या बीतेगी उसके दिल पर जिसका कब्ज़ा जायज़ है.


    भय से अपने अधिकार छोड़ दिए तो ....हो सकता है कल देश छोडना पड़े.

    ReplyDelete
  29. अब तो यह मामला मन में घोर वितृष्णा पैदा करता है ...
    बचके निकल जाने का मन करता है इससे....क्योंकि स्पष्ट है बात सही गलत की नहीं रही है...इसकी आंच पर केवल और केवल मनुष्यता जलाई जायेगी..

    ReplyDelete
  30. विश्वनाथ जी और रंजना जी की टिप्पणी से सहमत...

    ReplyDelete
  31. ऐसे लोगों की हाँ मे हाँ मिलाने की बजाय उन्हे निडर होकर समझायें सब समझ जाते हैं कि कुछ नही होने वाला ।

    ReplyDelete
  32. The High court has just delivered the judgment.
    I was not expecting this.

    Bangalore is calm.
    No incidents for 5 hours after the judgement and none expected tomorrow.
    What will Sunni Wakf board do now?
    Will they really resort to an appeal?
    Does an appeal have a chance of success?
    What if the Supreme court deprives them of even this 1/3 portion that they have now got?
    Or will every one feel enough is enough and put an end to this matter and simply accept this verdict?
    If so, will the Sunni Waqf board really build a mosque there? Is it worth it? Or will they hand over their part for a hefty consideration and build a bigger better mosque elsewhere?
    Just wondering at all the possibilities.
    Regards
    G Vishwanath

    ReplyDelete

आपको टिप्पणी करने के लिये अग्रिम धन्यवाद|

हिन्दी या अंग्रेजी में टिप्पणियों का स्वागत है|
--- सादर, ज्ञानदत्त पाण्डेय